UP Panchayat Chunav: तारीखों को लेकर यूपी पंचायती राजमंत्री ने खत्म किया सस्पेंस

पंचायती राजमंत्री के दिए बयान के मुताबिक 2015 में हुए चुनाव के समय जैसे रोटेशन प्रक्रिया को शून्य घोषित करके नए सिरे से आरक्षण जारी किया गया था, इस बार वैसा नहीं होगा. इस बार रोटेशन प्रक्रिया के तहत आरक्षण होगा.

UP Panchayat Chunav: तारीखों को लेकर यूपी पंचायती राजमंत्री ने खत्म किया सस्पेंस
पंचायती राजमंत्री चौधरी भूपेंद्र सिंह (File Photo)

लखनऊ: पंचायत चुनाव (UP Panchayat Chunav) की घड़ी नजदीक आ गई है. पंचायती राजमंत्री चौधरी भूपेंद्र सिंह के चुनावों की तारीख और आरक्षण पर दिए बयान के बाद सूबे की सियासी हलचल और बढ़ गई है. पंचायत चुनाव की तारीखों के लेकर पंचायती राजमंत्री ने बताया कि त्रिस्तरीय पंचायतों के चुनाव अप्रैल के अंतिम सप्ताह तक सम्पन्न हो जाएंगे. पंचायती राजमंत्री चौधरी भूपेंद्र सिंह के बयान से ये भी तस्वीर साफ हो गई कि इस बार पंचायत चुनाव में आरक्षण रोटेशन के आधार पर ही होगा. 

पंचायती राजमंत्री के दिए बयान के मुताबिक 2015 में हुए चुनाव के समय जैसे रोटेशन प्रक्रिया को शून्य घोषित करके नए सिरे से आरक्षण जारी किया गया था, इस बार वैसा नहीं होगा. इस बार रोटेशन प्रक्रिया के तहत आरक्षण होगा, जिससे जिला पंचायत, क्षेत्र पंचायत और ग्राम पंचायतों की करीब 70 फीसदी सीटों की मौजूदा स्थिति में बदलाव की सभांवना बनी रहेगी.

UP Panchayat Chunav 2021: बीजेपी ने जारी की जिला प्रभारियों की लिस्ट, वेस्ट यूपी में ज्यादा फोकस

बीजेपी की तैयारी पूरी, विपक्ष ने भी कमर कसी
बीजेपी सहित सभी विपक्षी दलों ने भी इन चुनावों की तैयारी को लेकर कमर कस ली है. बीजेपी ने पंचायत चुनाव को लेकर जिला और महानगर प्रभारियों की घोषणा कर दी है. राज्य के लगभग सभी वरिष्ठ नेताओं को जिम्मेदारी सौंपी गई है. विपक्षी दलों ने भी अपनी बिसात बिछानी शुरू कर दी है. पंचायत चुनावों को विधानसभा चुनाव के सेमीफाइनल के तौर पर भी देखा जा रहा है.

सपा कर रही चौपाल से राह आसान
किसानों के आंदोलन के इर्द-गिर्द सपा की राजनीति सरकार को घेरने की है. विरोध प्रदर्शन के बीच पार्टी गांव में चौपाल लगाकर जीत की राह तैयार कर रही है. उपचुनावों में मिली हार की टीस से भी उबरने के लिए पार्टी चौतरफा तैयारियों में जुट गई है. गांव में वजूद बचाने की भी पार्टी के सामने बड़ी चुनौती है.

UP Panchayat Chunav 2021: आ गई पंचायत चुनाव की तारीख, इस महीने हो सकते हैं चुनाव!

सोशल इंजीनियरिंग के फॉर्मूल पर BSP
बीएसपी खेमे से खबर है कि ग्राम पंचायत चुनावों में पैठ बनाने के लिए और साल 2022 को ध्यान में रखते हुए सोशल इंजीनियरिंग के फॉर्मूले पर प्रत्याशियों के चयन को लेकर रणनीति बना रही है.

साख बचाने के लिए संगठन पर फोकस कर रही कांग्रेस
कांग्रेस भी लड़ाई में पिछड़ ना जाए, इसके लिए प्रभारी बनाए गए हैं. संगठन पर फोकस कर इसे विस्तार देने की रणनीति कांग्रेस ने बनाई है. लगातार यूपी में हार रही कांग्रेस के लिए साख की लड़ाई है. 

UP Panchayat Chunav: वॉर्डों के परिसीमन की लिस्ट निर्वाचन आयोग को सौंपी गई, कम होगी प्रधानों की संख्या

AAP और AIMIM का क्या है प्लान?
वहीं आम आदमी पार्टी और AIMIM के पास भी पंचायत चुनावों में विधानसभा चुनाव से पहले अपनी तैयारियों को परखने का मौका है. ये दोनों पार्टियां अपने फायदे से ज्यादा दूसरी विपक्षियों पार्टियों को नुकसान पहुंचा सकती है.

मतदाता सूची प्रकाशन का आदेश
वहीं चुनाव आयोग ने भी अपने स्तर पर तैयारी शुरू कर दी है. चुनाव आयोग ने आदेश जारी कर दिए हैं जिसके तहत पंचायत चुनाव कराने के लिए मतदाता सूचियों का प्रकाशन कर दिया गया है. इस बीच चुनाव आयोग ने पंचायत चुनाव को चार चरणों में कराने की बात कही है.

UP Panchayat Chunav 2021: परिसीमन में कम हो गए वार्ड, प्रधानी के दावेदारों की बढ़ी मुश्किल

इतने अधिकारी-कर्मचारी देंगे ड्यूटी
राज्य निर्वाचन आयोग के अपर निर्वाचन आयुक्त के मुताबिक प्रदेश सरकार के मानव सम्पदा पोर्टल पर कुल 13 लाख 25 हजार कार्मिका डेटा दर्ज है, इसमें सचिवालय और निदेशालयों के भी कार्मिक शामिल हैं. शिक्षक, संविदा, पीएसयू, सहकारी बैंक आदि मिलाकर कुल 12.5 लाख कार्मिकों का डेटा बेस राज्य निर्वाचन आयोग ने तैयार कर लिया है. इनमें करीब साढ़े तीन लाख शिक्षक हैं. प्रत्येक पोलिंग बूथ पर एक पोलिंग अफसर, दो सहायक और दो चपरासी लगते हैं. अगर 100 पोलिंग बूथ हैं तो 130 पोलिंग अफसर, 260 सहायक और 260 चपरासी इलेक्शन ड्यूटी के लिए चुने जाएंगे. 

WATCH LIVE TV