CAA हिंसा: मेरठ में पुलिस पर गोलियां दागने वाला PFI का सदस्य अनीस खलीफा गिरफ्तार

20 दिसंबर को मेरठ में चार थाना इलाको में आठ जगहों पर हिंसा हुई थी. जिसमें पुलिस ने 24 मुकदमों में 180 नामजद और पांच हजार अज्ञात लोगों को शामिल किया था.

CAA हिंसा: मेरठ में पुलिस पर गोलियां दागने वाला PFI का सदस्य अनीस खलीफा गिरफ्तार

मेरठ: नागरिकता संशोधन एक्ट (CAA) के विरोध में यूपी के मेरठ में हिंसा भड़काने और पुलिस पर फायरिंग करने का आरोपी अनीस खलीफा गिरफ्तार कर लिया गया है. सीएए के विरोध में हिंसा (CAA Violence) के दौरान पुलिस पर फायरिंग करने वाले अनीस खलीफा पर 20 हजार का इनाम घोषित किया गया था. पुलिस ने अनीस खलीफा को पिस्टल के साथ गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा है कि 1987 के दंगे में अनीस के भाई की मौत हो गई थी. भाई की मौत का बदला लेने की नीयत से ही अनीस ने हथियार उठाकर पुलिस अफसरों को निशाना बनायाथा.

दरअसल, 20 दिसंबर को मेरठ में चार थाना इलाको में आठ जगहों पर हिंसा हुई थी. जिसमें पुलिस ने 24 मुकदमों में 180 नामजद और पांच हजार अज्ञात लोगों को शामिल किया था. पुलिस ने चेहरा छिपाकर फायरिंग करने वाले अनीस खलीफा की पहचान के लिए सोशल मीडिया पर उसकी फोटो शेयर की थी. इसी से उसकी पहचान हुई थी. पुलिस ने अनीस खलीफा पर 20 हजार का इनाम भी घोषित किया था. बतदाया जा रहा है कि अनीस खलीफा पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) का सदस्य है. बता दें कि यूपी के कई जिलों में सीएए विरोध में भड़की हिंसा के पीछे पीएफआई संगठन का हाथ सामने आया है.

गौरतलब है कि 20 दिसंबर को मेरठ में उपद्रवियों ने जमकर हिंसा फैलाई थी. उपद्रवियों ने पुलिस पर पथराव और फायरिंग भी की थी. इसके साथ ही पुलिस ने दावा किया था कि कई पुलिसकर्मियों को एक दुकान में बंद कर जिंदा जलाने का प्रयास किया गया था. बता दें कि पुलिस पर फायरिंग के तीन आरोपियों को पहले ही पकड़ा जा चुका है. वहीं, अनीस खलीफा फरार चल रहा था. बताया जा रहा है कि अनीस कपड़ों का कारोबारी है और उसके खिलाफ लिसाड़ी गेट में मुकदमा दर्ज है. पुलिस को उसका पुराना आपराधिक रिकॉर्ड भी मिला है.