कमलेश तिवारी हत्याकांड के सभी 13 आरोपियों पर UP POLICE ने लगाया गैंगस्टर एक्ट

 आपको बता दें कि पिछले साल 18 अक्‍टूबर को लखनऊ के नाका थाना क्षेत्र में हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की उनके दफ्तर में गला रेतकर हत्‍या कर दी गई थी.

कमलेश तिवारी हत्याकांड के सभी 13 आरोपियों पर UP POLICE ने लगाया गैंगस्टर एक्ट
हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की 18 अक्टूबर 2019 को लखनऊ में हत्या कर दी गई थी. (File Photo)

लखनऊ: कमलेश तिवारी हत्‍याकांड में उत्तर प्रदेश पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए 13 अभियुक्तों के खिलाफ गैंगस्‍टर एक्‍ट लगाया है. आपको बता दें कि पिछले साल 18 अक्‍टूबर को लखनऊ के नाका थाना क्षेत्र में हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की उनके दफ्तर में गला रेतकर हत्‍या कर दी गई थी. उत्तर प्रदेश पुलिस ने इस मर्डर केस में 13 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की थी. इन 13 आरोपियों में से अशरफ और मोइनुद्दीन नाम के व्यक्तियों पर कमलेश तिवारी की हत्‍या करने का आरोप है.

मौलाना रशीद फिरंगी पर भड़के सलमान नदवी, बोले- ''उनसे छीन ली जाए इमामत''

इस हत्‍याकांड के तार गुजरात से भी जुड़े थे. इस हत्याकांड की जांच-पड़पाल कर रही पुलिस टीम ने शुरुआत में गुजरात से 3 और उत्‍तर प्रदेश से 2 लोगों को गिरफ्तार किया गया था. इसके बाद उत्‍तर प्रदेश एटीएस ने पिछले साल अक्‍टूबर में अशरफ और मोइनुद्दीन की तस्‍वीरें जारी कर ढाई-ढाई लाख रुपये का इनाम घोषित किया था. बाद में यूपी एटीएस ने अशरफ और मोइनुद्दीन को गुजरात-राजस्‍थान सीमा से गिरफ्तार किया था.

लॉकडाउन के बीच पतंगबाजी में दो गुटों में विवाद, छावनी बना सिविल लाइंस इलाका

कमलेश तिवरी हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष थे. पिछले साल 18 अक्टूबर को जब वह अपने दफ्तर में बैठे थे तो दो लोगों ने उनसे मुलाकात के बहाने जाकर उनकी हत्या कर दी. जांच में हुए खुलासे के मुताकि हत्यारे मिठाई के डिब्बे में हथियार छिपाकर कमलेश तिवारी के दफ्तर में दाखिल हुए थे. पोस्‍टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक हत्‍यारों ने कमलेश तिवारी पर 15 बार चाकुओं से वार किया था. इसके अलावा उनका गला रेता गया था और गोली भी मारी गई थी.

WATCH LIVE TV