मिलिट्री इंटेलिजेंस इनपुट पर UP STF की कार्रवाई, Remdesivir की 265 बोतल के साथ 3 गिरफ्तार

यूपी एसटीएफ के मुताबिक उन्हें मिलिट्री इंटेलिजेंस से जानकरी मिली कि एक संदेहास्पद ग्रुप रेमडेसिविर कोविफॉर (Remdesivir Covifor) की कालाबाजारी कर रहा है. कानपुर के किदवई नगर में छापेमारी कर पुलिस ने तीन आरोपियों सचिन कुमार, मोहन सोनी और प्रशांत शुक्ला को गिरफ्तार किया.

मिलिट्री इंटेलिजेंस इनपुट पर UP STF की कार्रवाई,  Remdesivir की 265 बोतल के साथ 3 गिरफ्तार
बरामद हुई Remdesivir की बोतलें.

लखनऊ: एक ओर जहां कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने देश में हाहाकार मचा रखा है वहीं दूसरी ओर इस विपदा में भी कुछ लोग कालाबाजारी करने से बाज नहीं आ रहे. मिलिट्री इंटेलिजेंस से इनपुट मिलने के बाद गुरुवार को यूपी एसटीएफ और कानपुर पुलिस ने किदवई नगर में रेमडेसिविर इंजेक्शन की 265 बॉटल्स के साथ 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया.

 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि रेमडेसिविर इंजेक्शन एक जीवन रक्षक दवा है, जिसका उपयोग कोविड के अति गंभीर मरीजों के इलाज में किया जाता है. इस समय देश में इस इंजेक्शन की भारी कमी चल रही है. कोरोना संक्रमण की रफ्तार बढ़ने के कारण डिमांड बढ़ने के साथ इसकी एक बड़ी वजह रेमडेसिविर की ब्लैक मार्केटिंग भी है.   

यूपी के इस जिले में लगा वीकेंड लॉकडाउन, जानिए इस दौरान क्या रहेगा खुला, क्या रहेगा बंद

 

यूपी एसटीएफ के मुताबिक उन्हें मिलिट्री इंटेलिजेंस से जानकरी मिली कि एक संदेहास्पद ग्रुप रेमडेसिविर कोविफॉर (Remdesivir Covifor) की कालाबाजारी कर रहा है. कानपुर के किदवई नगर में छापेमारी कर पुलिस ने तीन आरोपियों सचिन कुमार, मोहन सोनी और प्रशांत शुक्ला को गिरफ्तार किया. पुलिस को इनके पास से रेमडेसिविर की 265 बोतलें मिली हैं.

लखनऊ में कोरोना के बिगड़ते हालात देख, DM ने जारी किए 4 नए हेल्पलाइन नंबर, यहां देखें पूरी डिटेल

UP STF के मुताबिक ये लोग एक बोतल 4000 रुपये तक में बेच रहे थे. कुल 265 बोतल के हिसाब से यह आंकड़ा 10 लाख रुपए से ज्यादा बैठता है. फिलहाल पुलिस तीनों से पूछताछ कर रही है. तीनों आरोपियों के खिलाफ बाबूपुरवा थाना पुलिस उचित कार्रवाई कर रही है.

WATCH LIVE TV