close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

केशव प्रसाद मौर्य बोले, 'अगले 50 वर्ष तक यूपी में सपा, बसपा और कांग्रेस का कोई भविष्य नहीं'

आने वाले उपचुनाव के लिये पार्टी कार्यकर्ताओं को कमर कस लेने की हिदायत देते हुये मौर्य ने कहा कि कार्यकर्ताओं पर जितनी जिम्मेदारी 2014, 2017 और 2019 में थी, उतनी ही जिम्मेदारी आने वाले उपचुनावों में भी रहेगी.

केशव प्रसाद मौर्य बोले, 'अगले 50 वर्ष तक यूपी में सपा, बसपा और कांग्रेस का कोई भविष्य नहीं'
केशव ने कहा कि सपा-बसपा गठबंधन के बाद सब समझ रहे थे कि यहां से भाजपा के सांसद नहीं बनेंगे और प्रधानमंत्री मोदीजी दोबारा प्रधानमंत्री नहीं बनेंगे.

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने रविवार को यहां दावा किया कि आने वाले लगभग 50 वर्ष तक उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी (सपा), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और कांग्रेस का कोई भविष्य नहीं है. प्रसाद रविवार को भारतीय जनता पार्टी पिछड़ा वर्ग द्वारा अयोजित समारोह में बोल रहे थे. उन्होंने कहा, 'मैं पूरे विश्वास के साथ कह सकता हूं कि अब आने वाले लगभग 50 सालों तक उत्तर प्रदेश और देश में समाजवादी पार्टी (एसपी), बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) और कांग्रेस का भविष्य नहीं दिखाई देता.'

आने वाले उपचुनाव के लिये पार्टी कार्यकर्ताओं को कमर कस लेने की हिदायत देते हुये मौर्य ने कहा कि कार्यकर्ताओं पर जितनी जिम्मेदारी 2014, 2017 और 2019 में थी, उतनी ही जिम्मेदारी आने वाले उपचुनावों में भी रहेगी. उन्होंने कहा, ‘‘आपने कन्नौज, फिरोजाबाद, बदायूं में कमल खिलाकर सैफई वंश के अंतिम शासक के रूप में अखिलेश यादव ने जो सरकार चलाई थी, उसको मौका नहीं दिया. सबका साथ सबका विकास और सबका विश्वास शब्द पर जिन्होंने हमें वोट दिया है, उनके लिए और जिन्होंने वोट नहीं दिया है, उनके लिए भी काम करेंगे, यह प्रधानमंत्री ने भी कहा है.' 

केशव ने कहा, ‘‘सपा-बसपा गठबंधन के बाद सब समझ रहे थे कि यहां से भाजपा के सांसद नहीं बनेंगे और प्रधानमंत्री मोदीजी दोबारा प्रधानमंत्री नहीं बनेंगे. लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. विरोधियों ने कोई‘‘कोशिश बाकी नहीं रखी हमे बांटने की. सपा, बसपा में कट्टी हो गई है. कोई बुआ से नाराज है, कोई भतीजे से. जब एक साथ बीजेपी को नहीं रोक सके तो अलग-अलग होकर क्या रोक पाएंगे. अभी तो 51 फीसदी वोट मिला है. हर विधानसभा के अंदर 60 प्रतिशत वोट का लक्ष्य हासिल करना है.'