कानपुर पुलिस ने सुलझाया अनुराग द्विवेदी अपहरणकांड, नकली बंदूक के सहारे हुई थी किडनैपिंग

एसपी साउथ अपर्णा गुप्ता ने बताया कि अपहरणकर्ताओं ने ईजी टारगेट के तहत इस वारदात को अंजाम दिया था.

कानपुर पुलिस ने सुलझाया अनुराग द्विवेदी अपहरणकांड, नकली बंदूक के सहारे हुई थी किडनैपिंग
फोटो साभार: @kanpurnagarpol

कानपुर: उत्तर प्रदेश के कानपुर में नकली बंदूक की नोंक पर अपहरण कर 15 लाख की फिरौती वसूलने वाले अपहरणकर्ताओं को धरदबोचने में पुलिस ने कामयाबी हासिल की है. अनुराग द्विवेदी अपहरणकांड का खुलासा करते हुए पुलिस ने बताया कि चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जिनका आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है.

घटना का खुलासा करते हुए पुलिस ने बताया कि सोमवार शाम एक प्राइवेट टेलीकॉम कंपनी के डायरेक्टर अनुराग द्विवेदी को उस वक्त अगवा कर लिया गया था जब वो गोविंदनगर थाना क्षेत्र के रतनलाल नगर स्थित अपने दफ्तर में बैठे थे. पुलिस को खबर मिली की वारदात को बोलेरो गाड़ी से आए चार बदमाशों ने अंजाम दिया है. जिसके बाद पुलिस तुरंत हरकत में आई और बदमाशों की तलाश में जुट गई.

एसपी साउथ अपर्णा गुप्ता ने बताया कि अपहरणकर्ताओं ने ईजी टारगेट के तहत इस वारदात को अंजाम दिया था. आरोपियों का कोई भी आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है. अपहरणकर्ताओं ने वारदात को अंजाम देते हुए 15 लाख की फिरौती ली, लेकिन फरार होने में नाकामयाब रहे. एसपी के मुताबिक अनुराग द्विवेदी सुरक्षित हैं, उनके ऑफिस से उठाया गया कीमती सामान भी बरामद कर लिया गया है. अभियुक्तों से 11 लाख नकद, 4 लैपटॉप और एक बुलेरो बरामद हुई है.