close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उत्तर प्रदेशः संभल के बुजुर्ग ने शहीदों के सम्मान में घर को ही बना दिया शहीद संग्रहालय

रिटायर्ड टीचर विनोद दत्ता वर्तमान दौर में शहीदों और सेना के नाम पर हो रही राजनीति से खासे नाराज हैं. 

उत्तर प्रदेशः संभल के बुजुर्ग ने शहीदों के सम्मान में घर को ही बना दिया शहीद संग्रहालय
टीचर विनोद दत्ता के घर में शहीद भगत सिंह की कई तस्वीरें मौजूद हैं.

सुनील सिंह/संभलः उत्तर प्रदेश के संभल जिले के एक रिटायर्ड टीचर विनोद दत्ता ने देश भक्ति का संदेश देने के लिए एक अलग ही तरीका अपनाया है, जहां उन्होंने युवाओं को प्रेरित करने के लिए अपने घर को शहीदों के संग्रहालय में तब्दील कर दिया है. घर में बने संग्रहालय में बुजुर्ग विनोद ने तमाम शहीदों की तस्वीरें लगा रखी हैं और उनकी शहादत के संदेश से घर को संग्रहालय में तब्दील कर दिया है. यही नहीं उनके घर में आजादी के लिए शहादत देने वाले शहीदों से संबंधित कई महत्वपूर्ण साहित्य भी मौजूद हैं. खासतौर पर शहीद भगत सिंह के चित्र से तो पूरा का पूरा घर ही पटा पड़ा है.

जब बड़े पर्दे पर नजर आए 'शहीद-ए-आजम', बॉलीवुड के ये एक्‍टर निभा चुके हैं भगत सिंह का किरदार

संभल के चंदोसी तहसील के रहने वाले बुजुर्ग रिटायर्ड टीचर विनोद दत्ता, जिन्होंने लोगों को देश भक्ति का पाठ पढ़ाने के लिए अपने घर की दीवारों को देश की आजादी के लिए अपनी कुर्बानी देने बाले शहीदों की दुलर्भ तस्वीरो से सजाकर आजादी के दीवानों के संग्रहालय में तब्दील कर दिया है. यही नहीं बुजुर्ग टीचर विनोद दत्ता ने सरदार भगत सिंह, अशफाक उल्ला खां द्वारा आजादी की लड़ाई के दौरान लिखे गए महत्व पूर्ण साहित्य को भी सहेज रखा है. उनके संग्रहालय में शहीद भगत सिंह द्वारा जेल में लिखी गई महत्वपूर्ण डायरी की प्रति भी है, जिसमें सरदार भगत सिंह के लिखे गए तरानों और पत्रों को सुनाकर विनोद दत्ता युवाओं को देश भक्ति का सन्देश देते हैं.

भगत सिंह जयंती: 'ये वादा है तुमसे मेरा कि, मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आएगा'

बुजुर्ग विनोद दत्ता का हौंसला और जोश उम्र के आखिरी पड़ाव पर भी कम नहीं हुआ है. वह आज भी देश भर में घूम-घूम कर पोस्टर प्रदर्शनी लगाते हैं. शहीद भगत सिंह के लिखे गीतों को सुनाकर लोगों को देश भक्ति का सन्देश देते हैं. विनोद दत्ता से प्रभावित कई जानी मानी हस्तियों ने उन्हें समानित किया है. शहीद भगत सिंह के परिजन भी रिटायर्ड टीचर विनोद दत्ता के इस शहीदों के संग्रहालय   को देखने चंदौसी आ चुके हैं. वहीं रिटायर्ड टीचर विनोद दत्ता वर्तमान दौर में शहीदों और सेना के नाम पर हो रही राजनीति से खासे नाराज हैं. कहते हैं आज के दौर में राजनेताओं में देश भक्ति का जज्बा खत्म हो गया है , पहले नेता देश के लिए अपना सब कुछ समर्पित कर देते थे, लेकिन आज के नेता करोड़ों की संम्पत्ति इकट्ठा करने के लिए राजनीति कर रहे हैं.