सुब्बन मियां बने गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल, 3 पीढ़ियों से चल रहा रावण का पुतला बनाने का काम

सुब्बन मियां बताते हैं कि पिछले तीन पीढ़ियों से उनका परिवार यह काम कर रहा है. वह यह काम 40 साल से कर रहे हैं. बता दें उनके दादा यह काम किया करते थे और सुब्बन मियां ने यह काम अपने पिता से ही सीखा है.

सुब्बन मियां बने गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल, 3 पीढ़ियों से चल रहा रावण का पुतला बनाने का काम

जौनपुर: यूपी के जौनपुर में शाहगंज मोहल्ला निवासी "सुब्बन मियां" गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल बने हुए हैं. तीन पीढ़ियों से सुब्बन मियां का परिवार दशहरा में रावण का पुतला बनाने का काम करता है. एक तरफ मोहर्रम में सुब्बन मियां ताजिया बनाते हैं, तो दूसरी तरफ दशहरे में रावण का पुतला भी बनाते हैं. इस बार सुब्बन मियां ने 75 फ़ीट के रावण का पुतला बनाया है, जो इस बार आकर्षण का केंद्र बना हुआ है.

अखिलेश से सवाल- गठबंधन चाहते हैं चाचा शिवपाल, करेंगे? जानिए सपा प्रमुख ने क्या दिया जवाब

तीन पीढ़ियों से चल रहा पुतला बनाने का काम
सुब्बन मियां बताते हैं कि पिछले तीन पीढ़ियों से उनका परिवार यह काम कर रहा है. वह यह काम 40 साल से कर रहे हैं. बता दें उनके दादा यह काम किया करते थे और सुब्बन मियां ने यह काम अपने पिता से ही सीखा है. आगे उन्होंने बताया कि वह बिल्कुल पढ़े-लिखे नहीं हैं. दशहरे में रावण के पुतले के साथ-साथ वह मोहर्रम में ताजिया भी बनाते है. सिर्फ इतना ही नहीं इसके अलावा वह शादी ब्याह में सलाद को आधुनिक तरह से काटकर सजावट का भी काम करते हैं.

पुतले बनाकर होता है परिवार का गुजारा
सुब्बन मियां कहते हैं कि इसी काम से उनके परिवार का गुजारा होता है. उनके 4 बच्चे हैं और वो चारों को पढ़ा-लिखा रहे हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि वह अपनी पीढ़ी की परंपरा को आगे बढ़ा रहे हैं और बच्चे चाहें तो इस परंपरा को आगे बढ़ा सकते हैं.

WATCH LIVE TV