मनीष गुप्ता हत्याकांड: हिरासत में लिया गया आरोपी दारोगा का बेटा, SIT ने बाराबंकी में छापा मारकर पकड़ा
X

मनीष गुप्ता हत्याकांड: हिरासत में लिया गया आरोपी दारोगा का बेटा, SIT ने बाराबंकी में छापा मारकर पकड़ा

कारोबारी मनीष गुप्ता की हत्या मामले में सस्पेंड और फरार चल रहे दारोगा अक्षय मिश्रा के बाराबंकी के घर पर गोरखपुर एसआईटी टीम ने छापा मारा. इस दौरान दरोगा के बड़े बेटे को एसआईटी टीम अपने साथ पूछताछ के लिए ले गई.

मनीष गुप्ता हत्याकांड: हिरासत में लिया गया आरोपी दारोगा का बेटा, SIT ने बाराबंकी में छापा मारकर पकड़ा

नितिन श्रीवास्तव/बाराबंकी: कानपुर जिले के रियल स्टेट कारोबारी मनीष गुप्ता की हत्या मामले में सस्पेंड और फरार चल रहे दारोगा अक्षय मिश्रा के बाराबंकी के घर पर गोरखपुर एसआईटी टीम ने आज छापा मारा. इस दौरान दरोगा के बड़े बेटे को एसआईटी टीम अपने साथ पूछताछ के लिए ले गई. आपको बता दें कि गोरखपुर में हुए व्यापारी मनीष हत्याकांड में गोरखपुर के रामगढ़ताल थाने के तत्कालीन इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह और चौकी इंचार्ज दरोगा अक्षय मिश्रा नामजद आरोपी हैं. 

इंस्पेक्टर जगत नारायण के साथ तत्कालीन चौकी इंचार्ज रहे अक्षय मिश्रा के खिलाफ भी नामजद मुकदमा दर्ज है और वह भी काफी दिनों से फरार चल रहे हैं. अक्षय मिश्रा की तलाश में शुक्रवार को एसआईटी की टीम उसके बाराबंकी के आवास विकास कॉलोनी स्थित घर पर पहुंची. आसपास के लोगों ने बताया कि पहले दरोगा के मकान का एसआईटी की टीम ने वीडियो बनाया. इसके बाद घर में गए और दरोगा के बड़े बेटे विक्की मिश्रा को अपने साथ ले गए. 

इस कार्रवाई को लेकर दारोगा अक्षय मिश्रा के छोटे बेटे सौरभ मिश्रा ने बताया कि उनके बड़े भाई विक्की मिश्रा को एसआईटी की टीम अपने साथ ले गई है. टीम में शामिल सादे ड्रेस में आए अधिकारियों ने अपने आप को गोरखपुर एसआईटी का सदस्य बताया और कहा कि पूछताछ के लिए विक्की मिश्रा को ले जा रहे हैं. सौरभ मिश्रा ने बताया वह और उसके बड़े भाई साफ्टवेयर इंजीनियर हैं और निजी कम्पनी में काम करते हैं. सौरभ ने कहा कि उसके पिता बेकसूर हैं और उन्हें फंसाया जा रहा है। सौरभ के मुताबिक पिछले कई दिनों से पिता से कोई सम्पर्क नहीं हो पाया है. सौरभ ने कहा कि मम्मी की तबीयत इस घटना को लेकर खराब है.

SIT ने आरोपी पुलिसकर्मियों पर घोषित किया इनाम
प्रॉपर्टी डीलर मनीष गुप्ता हत्याकांड मामले में आरोपी पुलिसकर्मियों पर इनाम घोषित कर दिया गया है. SIT ने गोरखपुर के थाना रामगढ़ ताल के पूर्व प्रभारी इंस्पेक्टर जेएन सिंह समेत सभी 6 पुलिसकर्मियों पर 25-25 हजार का इनाम घोषित किया है. बता दें कि गोरखपुर से केस कानपुर ट्रांसफर होने के बाद SIT इस मामले की जांच कर रही है. 

जिन पुलिसवालों पर इनाम घोषित किया गया है, उनमें इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह, एसआई अक्षय कुमार मिश्रा, एसआई विजय यादव, एसआई राहुल दुबे, हेड कॉन्स्टेबल कमलेश सिंह यादव और सिपाही प्रशांत कुमार का नाम शामिल है. गौरतलब है कि घटना के बाद से ये सभी आरोपी पुलिसकर्मी फरार चल रहे हैं. वहीं, एसआईटी का दावा है कि इन सभी की तलाश की जा रही है.

क्या है पूरा मामला?
कानपुर के जनता नगर (बर्रा) निवासी प्रॉपर्टी डीलर मनीष सोमवार सुबह अपने साथियों हरवीर सिंह और प्रदीप के साथ कार से गोरखपुर पहुंचे थे. तीनों यहां कृष्णा पैलेस होटल में रुके. मनीष के परिजनों का आरोप है कि सोमवार रात करीब 12:15 बजे पुलिस होटल में चेकिंग करने पहुंची और लोगों से आईडी प्रूफ दिखाने को कहा. मनीष और पुलिसकर्मियों में बहस हुई. पुलिस वालों ने मनीष को मारा, जिससे उनकी मौत हो गई. 

WATCH LIVE TV

 

Trending news