UP Chunav 2022: बड़बोले ओपी राजभर का नया बयान, बोले- 'मैं बाबा साहेब अंबेडकर के समान', देखिए कहां और क्यों यह बोले राजभर
X

UP Chunav 2022: बड़बोले ओपी राजभर का नया बयान, बोले- 'मैं बाबा साहेब अंबेडकर के समान', देखिए कहां और क्यों यह बोले राजभर

UP Election 2022 : ओमप्रकाश राजभर (OP Rajbhar) ने अखिलेश यादव  (Akhilesh Yadav) के बारे में कहा कि सीटों के बंटवारे पर उनसे गठबंधन नहीं हुआ है.

UP Chunav 2022:  बड़बोले ओपी राजभर का नया बयान, बोले- 'मैं बाबा साहेब अंबेडकर के समान', देखिए कहां और क्यों यह बोले राजभर

जालौन: UP Election 2022 भारतीय सुहेलदेव समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर (OP Rajbhar) अपने विवादित बयानों से हमेशा सुर्खियां बटोरते रहते हैं. अब उन्होंने एक और विवादित बयान देते हुए खुद की तुलना बाबा साहेब अंबेडकर से कर डाली है. ओमप्रकाश राजभर (omprakash rajbhar) ने कहा कि वे देश में दूसरे ऐसे मंत्री हैं, जिन्होंने सरकार में रहते हुए भी मंत्रिमंडल से इस्तीफा दिया है. ओपी राजभर बोले, मुझसे पहले बाबा साहब भीमराव अंबेडकर (baba saheb ambedkar) ही इकलौते ऐसे मंत्री थे जिन्होंने मंत्रिमंडल से इस्तीफा दिया था. बाबा साहब भीमराव अंबेडकर (bhimrao ambedkar) की भी कोई पद की लालसा नहीं थी.  मेरी भी कोई पद की लालसा नहीं है ना ही सीटों के बंटवारे पर अखिलेश यादव  (Akhilesh Yadav) से कोई गठबंधन हुआ है.

ओपी राजभर ने केंद्र व प्रदेश की भाजपा सरकार पर जोरदार हमला बोला है. उन्होंने संसद में कृषि बिल रद्द किए जाने पर हमला बोलते हुए कहा कि यदि सरकार किसानों के हित में बिल को लाती तो उन्हें इस कानून को संसद में वापस नहीं करना पड़ता. यह बात उन्होंने जालौन के उरई में पत्रकारों से बात करते हुए कही. 

ओमप्रकाश राजभर (OP Rajbhar) ने कहा कि इस बिल की संसद में रद्द किए जाने से किसान आंदोलन में शहीद हुए किसान वापस नहीं आ जाएंगे. उन्होंने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि भाजपा (BJP) सरकार की करनी और कथनी में अंतर है. सरकार कहती कुछ और है और करती कुछ और है.

सरकार बनेगी तो जातिगत जनगणना करेंगे 
वहीं, उन्होंने समाजवादी पार्टी (Samajwadi party) से हुए गठबंधन पर बोलते हुए कहा कि हमारा गठबंधन सीटों पर नहीं बल्कि जातिगत जनगणना को लेकर हुआ है. ओपी राजभर (omprakash rajbhar) ने कहा कि जब सरकार बनती है तो इसकी जातिगत जनगणना की जाएगी. साथ ही महंगाई भ्रष्टाचार और रोजगार के मुद्दों पर सपा से गठबंधन हुआ है. राजभर (rajbhar) ने कहा कि वह किसी पद की लालसा में नहीं है. यदि उन्हें पद की लालसा होती तो वह मंत्री होते हुए भी भाजपा सरकार से अपना गठबंधन नहीं तोड़ते और ना ही मंत्रिमंडल से इस्तीफा देते.

टेनी को बर्खास्त क्यों नहीं किया
लखीमपुर की घटना का उदाहरण देते हुए कहा कि लखीमपुर घटना के आरोपी केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी (ajay mishra teni) के खिलाफ 302 का मुकदमा दर्ज है, साथ ही 120 बी के मुलजिम बनाए गए हैं, लेकिन अभी तक केंद्र सरकार द्वारा उन्हें मंत्रिमंडल से बर्खास्त नहीं किया गया है, न ही उनकी गिरफ्तारी की गई, जबकि अजय मिश्रा (ajay mishra) खुले मंच पर प्रधानमंत्री मोदी (pm narendra modi), सीएम योगी आदित्यनाथ (cm yogi adityanath) और अमित शाह के साथ घूमते दिखाई दे रहे हैं.

यहां भी फिसल गई जुबान 
किसानों का मुद्दा रखते रखते राजभर की जुबान फिसल गई. लखीमपुर में हुई पत्रकार की हत्या के मामले में ओम प्रकाश ने किसानों पर ही पत्रकार की हत्या का ठीकरा फोड़ते हुए बोले कि चार-चार किसानों ने मिलकर पत्रकार की हत्या लखीमपुर में कर दी. उन्होंने गोरखपुर के डीएम पर हमला बोलते हुए कहा कि गोरखपुर के डीएम ने कोरोना काल में शिक्षा विभाग में रहते हुये करोड़ों का घपला किया है. ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों को भाजपा सरकार द्वारा उच्च पदों पर बैठा दिया गया है.

WATCH LIVE TV

 

Trending news