पुलिस को लखीमपुर खीरी कांड में सुमित जायसवाल उर्फ मोदी की तलाश, Mahindra Thar से उतरकर भागा था
X

पुलिस को लखीमपुर खीरी कांड में सुमित जायसवाल उर्फ मोदी की तलाश, Mahindra Thar से उतरकर भागा था

पुलिस का मानना है कि सुमित ही वह बंदा है जो साबित कर सकता है कि घटना वाले दिन आशीष मिश्रा महिंद्र थार जीप में मौजूद था या नहीं. 

पुलिस को लखीमपुर खीरी कांड में सुमित जायसवाल उर्फ मोदी की तलाश, Mahindra Thar से उतरकर भागा था

लखनऊ: लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में पुलिस को सुमित जायसवाल उर्फ मोदी (Lakhimpur Kheri Sumit Jaiswal aka Modi) नाम के शख्स की तलाश है. सुमित का घटना वाले दिन का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वह महिंद्र थार जीप (Mahindra Thar Lakhimpur) से उतरकर भागते हुए दिखाई दे रहा था. इसी थार जीप से किसानों को कुचलने का आरोप केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा उर्फ मोनू पर लगा है.

पुलिस का मानना है कि सुमित ही वह बंदा है जो साबित कर सकता है कि घटना वाले दिन आशीष मिश्रा महिंद्र थार जीप में मौजूद था या नहीं. प्रदर्शनकारियों पर आरोप है कि उन्होंने थार के ड्राइवर और इसमें सवार दो भाजपा कार्यकर्ताओं की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. मॉब लिन्चिंग की इस घटना के भी कई वीडियोज वायरल हो चुके हैं.  

तिकुनिया कांड का इकलौता चश्मदीद है सुमित जायसवाल उर्फ मोदी
सुमित जायसवाल थार जीप में मौजूद था जो तिकुनिया कांड का इकलौता चश्मदीद है. घटना के जितने वीडियो सामने आए हैं उससे साफ हो रहा है कि थार जीप की चपेट में आकर किसानों की मौत हुई. सूत्रों की मानें तो इस मामले में गिरफ्तार चारों आरोपियों से पूछताछ में सबसे अधिक तथ्यात्मक जानकारी अंकित दास से हासिल हुई है. उग्र किसानों को पीछे ढकेलने के लिए हवाई फायरिंग करने की बात भी सामने आ रही है. 

चुनाव आयोग ने दिया संकेत, UP 20 दिसंबर के बाद कभी भी लागू हो सकती है आदर्श चुनाव आचार संहिता

संयुक्त किसान मोर्चा ने दावा किया था कि बहराइच के किसान गुरिविंदर की मौत गोली लगने से हुई. लेकिन लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए सभी 8 लोगों के पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गोली लगने से किसी के मरने की पुष्टि नहीं हुई है. हालांकि, घटना वाले स्थान से दो फूंके कारतूस जरूर बरामद हुए हैं. इस बीच लखीमपुर हिंसा के आरोपी पूर्व केंद्रीय मंत्री अखिलेश दास के भतीजे अंकित दास व उसके पर्सनल गनर लतीफ काले को जांच टीम शुक्रवार दोपहर लखनऊ लेकर पहुंची थी.

अंकित के फ्लैट से पुलिस के हाथ रिवॉल्वर और एक रीपीटर बंदूक लगी
यहां अंकित के फ्लैट से पुलिस के हाथ एक लाइसेंसी रिवॉल्वर और एक रीपीटर बंदूक लगी, दोनों का लाइसेंस अंकित दास के नाम है. एसआइटी ने हथियारों को बैलिस्टिक टेस्ट के लिए फॉरेंसिक लैब भेजा है. बैलिस्टिक रिपोर्ट से साफ होगा कि अंकित ने घटना वाले दिन अपने असलहे का इस्तेमाल फायरिंग के लिए किया था या नहीं. पुलिस अंकित को फन मॉल के पीछे स्थित होटल सागर सोना भी लेकर गई और यहां कुछ सीसीटीवी फुटेज खंगाले. पुलिस ने होटल का डीवीआर अपने कब्जे में ले लिया है. 

WATCH LIVE TV

Trending news