कल पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में प्रियंका गांधी भरेंगी चुनावी हुंकार, अंतिम समय में बदला रैली का नाम

आगामी विधानसभा चुनाव अभियान का श्रीगणेश करने काशी आ रही प्रियंका वाड्रा रविवार को जगतपुर में होने वाली जनसभा में एक लाख लोगों को संबोधित करेंगी. 

कल पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में प्रियंका गांधी भरेंगी चुनावी हुंकार, अंतिम समय में बदला रैली का नाम

संकल्प दुबे/लखनऊ: उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले चुनाव से पहले अब सभी राजनीतिक दलों ने अपनी कमर कसनी शुरू कर दी है. अपने पिछले दौरे के समय पार्टी के पदाधिकारियों के साथ बैठक के दौरान प्रियंका गांधी ने अपनी चुनावी तैयारियों को तेज करने के संकेत दे दिए थे. इसी क्रम में प्रियंका गांधी वाराणसी में रविवार, 10 अक्टूबर को रैली को संबोधित करेंगी. वह पीएम मोदी के गढ़ से यूपी चुनाव-2022 का शंखनाद करेंगी. 

यूपी के छह जिला जजों समेत अधिकरणों के पीठासीन अधिकारियों का ट्रांसफर, देखें लिस्ट

पीएम के संसदीय क्षेत्र से करेंगी चुनावी शंखनाद
लखीमपुर हिंसा के बाद कांग्रेस पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में होने वाली इस रैली को नया नाम दे दिया है. वाराणसी में कल होने वाली प्रियंका गांधी की प्रतिज्ञा रैली का नाम बदलकर किसान न्याय रैली कर दिया गया है. वहीं इस रैली को लेकर सभी तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी हैं. 

प्रियंका गांधी की रैली वाराणसी के रोहनिया इलाके के जगतपुर डिग्री कॉलेज में होगी. माना जा रहा है इस रैली में एक लाख लोगों की भीड़ जुटाने के लिए कांग्रेस ने आसपास के सभी जिलों के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को रैली स्थल पहुंचने का आह्वान किया है. खबरों के मुताबिक जनसभा को संबोधित करने से पहले वह काशी विश्वनाथ मंदिर और दुर्गा कुंड में मत्था टेक कर आशीर्वाद भी लेंगी.

दूरदर्शन पर बच्चों को भाषा-गणित पढ़ाएंगे यूपी के आशुतोष दुबे, सीएम योगी कर चुके हैं सम्मानित

कांग्रेस के लिए शुभ रहा है जगतपुर कॉलेज का मैदान 
कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी की कल को बनारस में होने वाली रैली के कई मायने में खास है क्योंकि रैली के लिए चुना गया जगतपुर कॉलेज का मैदान कांग्रेस के लिए हमेशा से शुभ माना जाता है. 2002 में 29 अक्टूबर को इसी परिसर में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कार्यकर्ताओं से सीधा संवाद किया था. 2004 के चुनाव में कांग्रेस के लिए अनुकूल वातावरण बनाने में यह परिसर मील का पत्थर साबित हुआ था. 2005 में कांग्रेस का प्रदेश स्तरीय प्रशिक्षण शिविर भी यहां लगाया था.

लोकतंत्र में कोई मतदाता स्थाई नहीं होता
वही रैली की तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे वाराणसी के पूर्व सांसद डॉ राजेश मिश्रा ने ज़ी मीडिया से खास बातचीत में बताया कि लोकतंत्र में कोई मतदाता किसी के स्थाई नहीं होता है. इस रैली का पूरे पूर्वांचल में ही नहीं पूरे उत्तर प्रदेश में असर पड़ेगा. उन्होंने कहा कि वाराणसी मोदी जी का गढ़ नहीं है वो यहां से सांसद हैं. 2014 और 19 में बनारस की परिस्थिति ऐसी हुई थी मोदी जी चुनाव जीत गए. यदि बनारस मोदी जी का घर होता तो मुझे हराने के लिए नरेंद्र मोदी जी को गली-गली 3 दिन क्यों घूमना पड़ा. बनारस से चुनाव जीतने में मोदी जी को प्रधानमंत्री होने का लाभ मिला.
इसलिए चुनाव में बीजेपी को 38 फीसदी वोट मिला था उसमें से 20 फीसदी लोग नाराज हैं. लोगों की नाराजगी को समेटने और सुनने वाला कोई नहीं है.

अखिलेश यादव ने अपने कार्यकाल में कोई काम नहीं किया
सपा पर हमला बोलते हुए हुए राजेश मिश्रा ने कहा कि समाजवादी पार्टी ने प्रदेश में विपक्ष की भूमिका नहीं निभाई. हम समाजवादी पार्टी पर कुछ नहीं बोलते, वह जबरदस्ती हमारी पार्टी को लेकर बात करते हैं. अगर हम BJP की खिलाफत करते हैं तो समाजवादी पार्टी हमसे क्यों परेशान हैं. कांग्रेस की सक्रियता से सपा को नुकसान होने की आशंका है. अखिलेश यादव ने अपने कार्यकाल में कोई काम नहीं किया. अखिलेश सिर्फ घर से कार्यालय और कार्यालय से घर जाते रहे हैं. 

Lakhinpur Case: क्राइम ब्रांच के सामने पेश हुआ केंद्रीय गृह राज्य मंत्री का बेटा आशीष मिश्रा, पूछताछ शुरू

Petrol Diesel Price: फिर लगी पेट्रोल-डीजल की कीमतों में आग! लखनऊ के दाम सुनकर उड़ जाएंगे होश

WATCH LIVE TV