दिवाली बाद प्रत्याशियों का ऐलान: उम्मीदवारों को लेकर सपा की तैयारी पूरी, पढ़िए किन पर होगा दांव
X

दिवाली बाद प्रत्याशियों का ऐलान: उम्मीदवारों को लेकर सपा की तैयारी पूरी, पढ़िए किन पर होगा दांव

 पिछले विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी आंतरिक संघर्ष से जूझ रही थी. मुश्किल हालात में अखिलेश यादव ने सपा की कमान संभाली थी. शिवपाल गुट ने अपने प्रत्याशी तय कर दिए थे. इस तरह एक ही पार्टी में दो-दो सूची जारी हुईं थी.

दिवाली बाद प्रत्याशियों का ऐलान: उम्मीदवारों को लेकर सपा की तैयारी पूरी, पढ़िए किन पर होगा दांव

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election 2022) को लेकर सभी राजनीतिक दलों ने तैयारियां तेज कर दी हैं. प्रदेश में चुनावी जनसभाओं और रैलियों का दौर शुरू हो गया है. जानकारी के मुताबिक समाजवादी पार्टी दिवाली के बाद अपने उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर सकती है. क्योंकि इस बार समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव प्रत्याशियों को चुनाव तक तैयारियों के लिए भरपुर समय देना चाहते हैं. 

प्रोफेशनल एजेंसी से ली जा रही है मदद 
समाजवादी पार्टी 2022 विधानसभा में प्रत्याशियों को टिकट देने से पहले उनकी क्षमताओं को परखने के लिए प्रोफेशनल एजेंसी से मदद ले रही है. प्रदेश के अलग-अलग विधानसभा सीटों पर संभावित प्रत्याशियों की स्थिति का आकलन भी कराया जा रहा है. इसके साथ ही संगठन से आंतरिक फीडबैक लेने के बाद तय पैनल से प्रत्याशी तय होंगे.

Bhojpuri Video: सास के सामने ननद के साथ भाभी ने जमकर लचकाई कमर, चारों ओर हो रही चर्चा

पार्टी मुख्यालय पर आवेदकों का लग रहा जमावड़ा 
सूबे में अभी चुनाव की डुगडुगी बजी नहीं है. लेकिन चुनाव सरगर्मियां जोरों पर हैं. इन दिनों लखनऊ स्थित समाजवादी पार्टी के मुख्यालय में टिकट के लिए आवेदकों का जमावड़ा लगा हुआ है. पार्टी ने तय फीस के साथ चुनाव टिकट के लिए आवेदन मांगे थे. अब तक पांच हजार से ज्यादा आवेदन आ चुके हैं. इस बार बड़े दल से गठजोड़ नहीं हो रहा है, इस कारण पार्टी के लिए अपने मजबूत दावेदारों को टिकट देने में पिछले बार के मुकाबले ज्यादा मुश्किलें नहीं आएंगी. 

UP Viral Video: बंदर को लगी थी भूख, होटल पहुंचकर इंसानों की तरह धुला बर्तन, फिर खाया खाना

2017 में हड़बड़ी में तय हुए थे टिकट 
बता दें कि पिछले विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी आंतरिक संघर्ष से जूझ रही थी. मुश्किल हालात में अखिलेश यादव ने सपा की कमान संभाली थी. शिवपाल गुट ने अपने प्रत्याशी तय कर दिए थे. इस तरह एक ही पार्टी में दो-दो सूची जारी हुईं थी. यही कारण है कि काफी समय तक दावेदार असमंजस में रहे. ऐन वक्त पर कांग्रेस से गठबंधन हुआ. अंतत: देर से प्रत्याशियों की फाइनल सूची घोषित हुई.  

जौनपुर में बड़ा हादसा: देर रात दो मंजिला मकान गिरा, 5 की मौत, 6 की हालत गंभीर, राहत बचाव कार्य जारी

जल्द तय होगा सीट का फार्मूला 
2017 विधानसभा चुनाव में सपा को कांग्रेस से गठबंधन के चलते 114 सीटें छोड़नी पड़ी थीं. इस वजह से इतनी सीटों पर सपा अनुपस्थित रही. इन ,सीटों पर सपा ज्यादा मजबूत नहीं है और अधिकांश सीटें भाजपा के पास चली गई थीं. अब इन सीटों पर भी जल्द प्रत्याशी तय होंगे. सपा मुखिया इस बार सीटिंग सीटों पर भी टिकट काटने या बदलने की तैयारी में हैं. यही नहीं भाजपा से आने वाले सिटिंग विधायकों को भी टिकट के जरिए समायोजित किया जाएगा. गठबंधन में शामिल दलों के लिए सीट फार्मूला जल्द तय होगा. 

WATCH LIVE TV

Trending news