स्मृति ईरानी का 'डिग्री-विवाद' खड़ा करने वालों को मुंहतोड़ जवाब, यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफॉर्निया का प्रतिष्ठित कोर्स किया पास
X

स्मृति ईरानी का 'डिग्री-विवाद' खड़ा करने वालों को मुंहतोड़ जवाब, यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफॉर्निया का प्रतिष्ठित कोर्स किया पास

स्मृति ईरानी ने यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफॉर्निया की संबद्व संस्था हास स्कूल ऑफ़ बिजनेस से 'बर्कले फिनटेक, फ्रेमवर्क, एप्लिकेशन एंड स्ट्रेटजीज' के कोर्स को सफलतापूर्वक पूरा किया.

स्मृति ईरानी का 'डिग्री-विवाद' खड़ा करने वालों को मुंहतोड़ जवाब, यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफॉर्निया का प्रतिष्ठित कोर्स किया पास

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने फाइनेंस वर्ल्ड में एक प्रतिष्ठित कोर्स को पूरा कर, कुछ वर्ष पहले उनकी डिग्री पर विवाद खड़ा करने वालों को मुंहतोड़ जवाब दिया है. राजनीति की अपनी व्यस्तता के साथ-साथ समय निकालते हुए स्मृति ईरानी ने इस कोर्स की पढ़ाई की. उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफॉर्निया की संबद्व संस्था हास स्कूल ऑफ़ बिजनेस से 'बर्कले फिनटेक, फ्रेमवर्क, एप्लिकेशन एंड स्ट्रेटजीज' के कोर्स को सफलतापूर्वक पूरा किया. यूनिवर्सिटी की एक्जीक्यूटिव एजुकेशन के तहत टॉप मैनेजर्स व अलग-अलग क्षेत्र में अपनी नेतृत्वशक्ति से पहचान बनाने वाले लोग यह कोर्स करते हैं. केंद्रीय मंत्री ने इस कोर्स को पूरा करने का प्रमाण पत्र लिंक्डइन पर शेयर किया. उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफॉर्निया, हास स्कूल ऑफ बिजनेस और इस कोर्स के गाइड प्रो.यानिव कोंचित्चकी को धन्यवाद दिया जिनके निर्देशन में उन्होंने ये सफलता पाई. केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने इस कोर्स को सफलतापूर्वक पूरा कर, एक वक़्त उनकी डिग्री पर सवाल खड़ा करने वालों को बता दिया है कि शिक्षा की रोशनी को पाने में वे कभी भी पीछे नहीं रहतीं. 

कैसे की पढ़ाई 
यूसी बर्कले के इस कोर्स के लिए स्मृति ईरानी को वर्चुअल क्लासरूम के जरिए प्रति हफ्ते चार से छह घंटे के ऑनलाइन सेशन लेने होते थे. इस दौरान उनके प्रोफेसर स्मृति के साथ-साथ पूरे बैच को विषय की बारीकियां बताते थे. पाठ्यक्रम का कोर्स मैटेरियल वीडियो और टेक्स्ट बेस्ड होता था, जिसकी सेशन के बाद पढ़ाई करनी पड़ती थी. कोर्स का मोड ऑफ लर्निंग सेल्फ स्टडी था और इस कोर्स का माध्यम अंग्रेजी भाषा थी. कोर्स के तहत स्मृति ईरानी ने फिनटेक ट्रेंड, इकोसिस्टम, स्ट्रेटेजी टूल्स, फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी इनोवेशन आदि टॉपिक्स की पढ़ाई की है.

ये रहे गाइड 
यूनिवर्सिटी के इस खास कोर्स जिसे बर्कले फिनटेक ट्रेनिंग प्रोग्राम के नाम से जाना जाता है, उसमें शिक्षण और गाइडेंस की मुख्य जिम्मेदारी यूसी बर्कले हास स्कूल ऑफ बिजनेस के प्रोफेसर यानिव कोंचित्चकी, क्रिस्टीन पार्लर, स्टीव टैडेलिस और शेचर कैरिव की रहती है. ये फैकल्टी अर्थशास्त्र और वित्त के विषयों पर तो महारत रखती ही है, साथ ही उन्हें किसी विषय को सरल तरीके से समझाने और पढ़ाने का भी खास अनुभव है. स्मृति ईरानी ने इन्हीं फैकल्टी से इस कोर्स में विषय के बारे में गहन जानकारियां हासिल की हैं. प्रोफेसर याविन कोंचित्चकी को तो खुद केंद्रीय मंत्री ने अपनी लिंक्डइन पोस्ट पर धन्यवाद दिया है. 

कोर्स की खासियतें 
- इस पाठ्यक्रम में आठ मॉड्यूल शामिल हैं. इनके अंतर्गत आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई), ब्लॉकचेन, मोबाइल पेमेंट इनोवेटिव सिस्टम और फिनटेक इंडस्ट्री के कई नए आविष्कार शामिल हैं. 
- बर्कले फिनटेक कोर्स वर्ल्ड के उन टॉप मैनेजर्स व लीडर्स द्वारा किया जाता है, जो वित्तीय क्षेत्र के नए फिनटेक ट्रेंड्स, वित्तीय इकोसिस्टम, फाइनेंस वर्ल्ड में उपयोग होने वाले नए टूल्स और फाइनेंस के क्षेत्र  में टेक्निकल एप्लिकेशंस के बारे में जानने-समझने में रुचि रखते हैं.
- हर साल कई बड़ी कंपनियों के वरिष्ठ स्तर के प्रबंधक, व्यावसायिक उद्यमों के सीईओ, प्रतिष्ठित वित्त सलाहकार, पॉलिसी मेकर्स पॉलिटिशियंस इस कोर्स को करते हैं. 

क्यों महत्वपूर्ण है यह डिग्री 
इस कोर्स का महत्व इसी बात से बढ़ जाता है कि इसे दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज में शामिल यूसी बर्कले द्वारा दिया जाता है. अमेरिका के कैलिफॉर्निया प्रांत के बर्कले शहर में स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफॉर्निया को व उसके कॉलेजेस को भी आमतौर पर यूसी बर्कले पुकारा जाता है. 1868 में स्थापित कैलिफॉर्निया विश्वविद्यालय, फोर्ब्स द्वारा जारी अमेरिका के शीर्ष शिक्षण संस्थानों की वार्षिक सूची में भी एक बार स्थान बना चुका है. यूसी बर्कले के जिस हास स्कूल ऑफ बिजनेस ने स्मृति को यह कोर्स सर्टिफिकेट प्रदान किया है, वह भी विश्व के टॉप बिजनेस स्कूलों में गिना जाता है. इस स्कूल के कोर्स ड्यूरेशन, साल दो साल से लंबे नहीं होते, पर उनकी स्टडी क्वालिटी बहुत उच्च स्तर की होती है.
  
बधाइयों का सिलसिला जारी  
केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को इस अतिमहत्वपूर्ण कोर्स के पूरा करने पर हजारों लोगों की बधाइयां भी मिली हैं. लिंक्डइन और इंस्टाग्राम पर स्मृति के पोस्ट पर कमेंट्स की बौछार आई हुई है. एक यूजर्स गुरप्रीत सिंह ने लिखा- स्मृति आप अपने व्यस्त कार्यक्रम के बावजूद नवाचार में हमेशा लगी रहती हैं. मुझे आश्चर्य है कि आपने अपनी यात्रा के दौरान दूरस्थ क्षेत्रों से इन कॉल्स के लिए लॉगिन को मैनेज किया और वहां भी इस कोर्स के लिए समय निकला. नई चीजें सीखने का आपका समर्पण सभी के लिए एक बेंचमार्क है.

सौरभ पंडित ने लिखा, मुझे आपका यह कोर्स करना काफी प्रेरक लगा. बिजी होने के बावजूद आप सफल रहीं और सर्टिफिकेशन हासिल किया. राजेंद्र सिंह सेंगर ने लिखा,  ज्ञान का दरिया भरने के लिए आपकी जिज्ञासा को सलाम. के राजीव नारायण ने लिखा, अभी तक भारतीय राजनीति के इतिहास में, मैंने किसी राजनेता को नई चीजें सीखने और समाज में योगदान के लिए खासतौर पर एक कोर्स पूरा करते पहली बार देखा है. किरण तीगल ने लिखा, आपसे प्रेरित होकर मैं भी एक कोर्स करुंगा मैम.

उनकी इस पोस्ट पर चंद्रकांत कथोटे, प्रीतम जोशी, नरेश के गुप्ता, सतीश कुमार, रश्मि जयपुरियार, हरि सिंह चौहान, अनिमेष मुखर्जी, प्रीतम दत्ता, गगन सिंह, अमित लिमए समेत हजारों प्रशंसकों ने शुभकामनाएं भेजी हैं.

WATCH LIVE TV

Trending news