उत्तराखंड के गवर्नर पद से क्यों दिया इस्तीफा? बेबी रानी मौर्य ने किया खुलासा

किसान आंदोलन के मुद्दे पर बेबी रानी मौर्य ने कहा कि किसान पार्टी के साथ है. किसान का आंदोलन पंजाब से शुरू हुआ था, खत्म भी वहीं पर हो जाएगा. उन्होंने जोर दिया देकर कहा कि अब वे पार्टी के निर्देश दिए पर दलित वर्ग के लिए काम करेंगी.

उत्तराखंड के गवर्नर पद से क्यों दिया इस्तीफा? बेबी रानी मौर्य ने किया खुलासा
फाइल फोटो

आगरा: उत्तराखंड की पूर्व राज्यपाल बेबी रानी मौर्य (Baby Rani Maurya) ने एक प्रेस कांफ्रेंस कर उत्तराखंड (Uttarakhand) के राज्यपाल पद से इस्तीफे को लेकर लग रहीं तमाम अटकलों पर विराम लगा दिया है. उन्होंने कहा है कि वे सक्रिय राजनीति में आना चाहती थीं इसलिए ही उन्होंने उत्तराखंड के राज्यपाल पद से इस्तीफा दिया है. अब पार्टी जो भी जिम्मेदारी देगी वो उसको बखूबी निभाएंगी. 

किसान आंदोलन के मुद्दे पर बेबी रानी मौर्य ने कहा कि किसान पार्टी के साथ है. किसान का आंदोलन पंजाब से शुरू हुआ था, खत्म भी वहीं पर हो जाएगा. उन्होंने जोर दिया देकर कहा कि अब वे पार्टी के निर्देश दिए पर दलित वर्ग के लिए काम करेंगी.

Petrol Diesel Price: आज फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, जानें लखनऊ-नोएडा में कितने चुकाने होंगे रुपये

आपको बता दें कि पिछले महीने अचानक बेबी रानी मौर्य ने उत्तराखंड के राज्यपाल पद से इस्तीफा दे दिया था. इस्तीफे के बाद सियासी गलियारों में तरह-तरह की अटकलें लगने लगीं. वहीं यूपी में चुनाव से पहले बेबी रानी मौर्य को बड़ी जिम्मेदारी देते हुए बीजेपी ने राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में साल 2022 के शुरूआती महीने में विधानसभा का चुनाव प्रस्तावित है.

आगरा में मेयर भी रही हैं बेबी रानी मौर्य
64 साल की बेबी रानी मौर्य को साल 2018 के अगस्त में उत्तराखंड का राज्यपाल बनाया गया था. इससे पहले वह उत्तर प्रदेश के आगरा में मेयर भी रही हैं.  दलित नेता बेबी रानी मौर्य 2007 में यूपी विधानसभा चुनाव में एतमादपुर सीट से लड़ी थीं और जीत भी दर्ज की थी.

गाय के गोबर से बने दीपक और लक्ष्मी-गणेश की मूर्तियों की विदेशों में भारी डिमांड, महिला कैदी कर रहीं तैयार

WATCH LIVE TV