यूपी विधानसभा चुनाव 2022: दलित वोटों को साधने में जुटी समाजवादी पार्टी, बनाई ये खास योजना

सपा दलितों को साधने के लिए तैयारियों में जुट गई है. इसके लिए कई जिलों में कार्यक्रम कर रही है, जिससे दलित वोट बैंक सपा की तरफ पूरी तरह से झुक जाए. 

यूपी विधानसभा चुनाव 2022: दलित वोटों को साधने में जुटी समाजवादी पार्टी, बनाई ये खास योजना

लखनऊ: आगामी यूपी विधानसभा चुनाव के लिए राजनीतिक दलों ने तैयारियां शुरू कर दी हैं, समाजवादी पार्टी भी चुनाव की तैयारियों में कोई भी कसर नहीं छोड़ना चाहती है. इसी कड़ी में सपा हर वर्ग को साथ लेकर चलना चाहती है.  ऐसे में अब दलित वोट की चिंता भी सपा को सताने लगी है. दलित वोट बैंक को साधने के लिए पार्टी तैयारियों में जुट गई है. सपा कई जिलों में कार्यक्रम कर रही है, जिससे दलित वोट बैंक सपा की तरफ पूरी तरह से झुक जाए. 

सपा का दलितों को साधने का प्रयास
एक तरफ बहुजन समाज पार्टी अपने कोर वोट बैंक की चिंता न करते हुए ब्राह्मणों को साधने में लगी हुई है, तो वहीं अब समाजवादी पार्टी भी ब्राह्मणों के बाद दलितों की तरफ उसका झुकाव देखने को मिल रहा है. उत्तर प्रदेश में दलित वोट बैंक बसपा की तरफ हमेशा से माना जाता रहा है. ब्राह्मण संवाद करने के बाद समाजवादी पार्टी बसपा के कोर वोट बैंक पर नजर गड़ाए हुए हैं.

UP विधानसभा चुनाव 2022: पहली बार सभी सीटों के हर पोलिंग बूथ पर लगेंगी VVPAT, जान सकेंगे किसे दिया वोट

इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में सपा ब्राह्मण संवाद कार्यक्रम करने जा रही है, साथ ही दलित वर्ग को साधने का प्रयास भी किया जा रहा है. इसी कड़ी में अब समाजवादी पार्टी अपने संवाद कार्यक्रम में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकाल में दलितों पर हुए उत्पीड़न की चर्चा करेगी और इस चर्चा को जन जन तक पहुंचाने का काम इसी कार्यक्रम के माध्यम से सपा कर रही है. 

कानपुर के रिच ग्रुप ने Fake Bills बनाने में की सोनू सूद की मदद, चपरासी थे बोगस कंपनियों के डायरेक्टर 

भारतीय जनता पार्टी के कार्यकाल में दलितों के उत्पीड़न को समाजवादी पार्टी भुनाना चाहती है लेकिन सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस दोनों ही समाजवादी पार्टी पर हमलावर हैं. देखने वाली बात होगी कि आने वाले दिनों में समाजवादी पार्टी के साथ दलित वर्ग कितना जुड़ेगा जिससे कि 2022 में समाजवादी पार्टी सत्ता के करीब पहुंचा पाए. 

WATCH LIVE TV