कानपुर बालिका संरक्षण गृह कांड के बाद बाल आयोग ने दिए सभी DM को ये निर्देश

कानपुर के सरंक्षण गृह में बालिकाओं के गर्भवती होने के सवाल पर बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष डॉ. विशेष गुप्ता ने कहा कि बालिकाएं पहले से ही गर्भवती थीं. चूंकि पोक्सो एक्ट की बालिकाओं को भी अब बाल संरक्षण गृह में रखा जाता है, ऐसे में ये बालिकाएं यहां आने से पहले ही प्रेगनेंट थीं. 

कानपुर बालिका संरक्षण गृह कांड के बाद बाल आयोग ने दिए सभी DM को ये निर्देश
उत्तर प्रदेश बाल आयोग के अध्यक्ष डॉ. विशेष गु्प्ता (file photo)

दीपचंद्र जोशी/मुरादाबाद: कानपुर का बालिका सरंक्षण गृह कांड सामने आने के बाद बाल सरंक्षण आयोग के अध्यक्ष ने सभी जिलों के जिलाधिकारियों को चिट्ठी लिखी है. चिट्ठी के जरिये उन्हें कोरोना के प्रति ज्यादा सावधानी बरतने के निर्देश दिए गए हैं. बाल संरक्षण आयोग ने कानपुर के डीएम से बात करके ज्यादा से ज्यादा बालिकाओं को उनके परिजनों के सुपुर्द करने को कहा है.

कानपुर के सरंक्षण ग्रह में 57 कोरोना पॉसिटिव केस आने मामले में बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष ने ये कदम उठाया है. उन्होंने ये भी कहा वे कानपुर के संरक्षण गृह का निरीक्षण भी करेंगे. संरक्षण गृह में आई रिपोर्ट्स को 19 जून को ही मुख्य सचिव को भेजा जा चुका है. 

इसे भी पढ़िए: कानपुर के सरकारी शेल्टर होम में 57 लड़कियां निकलीं कोरोना पॉजिटिव, इनमें 7 गर्भवती

POSCO Act की बालिकाएं हैं गर्भवती
कानपुर के सरंक्षण गृह में बालिकाओं के गर्भवती होने के सवाल पर बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष डॉ. विशेष गुप्ता ने कहा कि बालिकाएं पहले से ही गर्भवती थीं. चूंकि पोक्सो एक्ट की बालिकाओं को भी अब बाल संरक्षण गृह में रखा जाता है, ऐसे में ये बालिकाएं यहां आने से पहले ही प्रेगनेंट थीं. हालांकि उन्होंने क्षमता से अधिक लोगों को सरंक्षण ग्रह में रखे जाने पर चिंता जाहिर की और कहा कि इसे आयोग की ओर से प्रमुख सचिव को पत्र लिखा गया है और उचित कार्रवाई की मांग की गई है. 

WATCH LIVE TV