कल मिलेगा उत्तराखंड बीजेपी को नया प्रदेश अध्यक्ष, जानिए कौन है अध्यक्ष पद की दौड़ में सबसे आगे

माना जा रहा है कि जातीय समीकरण के साथ क्षेत्रीय समीकरण में जो सबसे ज्यादा फिट होगा उसी का चुनाव किया जाएगा. 

कल मिलेगा उत्तराखंड बीजेपी को नया प्रदेश अध्यक्ष, जानिए कौन है अध्यक्ष पद की दौड़ में सबसे आगे
गुरुवार को उत्तराखंड बीजेपी को नया प्रदेश अध्यक्ष मिल जाएगा.

देहरादून: उत्तराखंड में बीजेपी की कमान किसके हाथों में होगी यह कल तय हो जाएगा. उत्तराखंड बीजेपी ने प्रदेशाध्यक्ष को लेकर बुधवार को अधिसूचना जारी कर दी है. बुधवार को अधिसूचना जारी होने के बाद कोई नामांकन सामने नहीं आया. ऐसे में अब इस बात की पूरी उम्मीद लगाई जा रही है कि गुरुवार को ही नामांकन सामने आएंगे और इसी दिन उत्तराखंड के बीजेपी अध्यक्ष के नाम पर मुहर लग जाएगी. कई नाम प्रदेशाध्यक्ष बनने के लिए चर्चाओं में हैं. लेकिन सबसे ज्यादा चर्चा वरिष्ठ बीजेपी नेता और विधायक बंशीधर भगत को लेकर है.

माना जा रहा है कि जातीय समीकरण के साथ क्षेत्रीय समीकरण में जो सबसे ज्यादा फिट होगा उसी का चुनाव किया जाएगा. कई नामों के बीच बंशीधर भगत को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है.

कौन हैं बंशीधर भगत ?
पूर्व कैबिनेट मंत्री और कालाढूंगी के विधायक बंशीधर भगत भाजपा के वरिष्ठ नेता है. बंशीधर भगत 6 बार से विधायक हैं. साल 1975 में जनसंघ पार्टी से जुड़े थे बाद में उन्होंने किसान संघर्ष समिति बनाकर राजनीति में एंट्री की. राम जन्म भूमि आंदोलन में वो 23 दिन अल्मोड़ा जेल में रहे. साल 1989 में उन्होंने नैनीताल-ऊधमसिंह नगर के जिला अध्यक्ष का पद संभाला. साल  1991 में वह पहली बार उत्तर प्रदेश विधानसभा में नैनीताल से विधायक बने. फिर 1993 व 1996 में तीसरी बार नैनीताल के विधायक बने. इस दौरान उन्हें उत्तर प्रदेश सरकार में खाद्य एंव रसद राज्यमंत्री, पर्वतीय विकास मंत्री, वन राज्य मंत्री का कार्यभार संभाला. साल  2000 में राज्य गठन के बाद वह उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री रहे. साल  2007 में हल्द्वानी विधानसभा  वह चौथी बार विधायक बने और उन्हें उत्तराखंड सरकार में वन और परिवहन मंत्री बनाया गया.  2012 और 2017 में कालाढूंगी विधानसभा से  जीत हासिल की .बंशीधर भगत को अगर  कमान मिलती है तो उनके सामने सबसे बड़ी चुनौती  2022 में बीजेपी की सरकार वापस लाने के लिए जमीन पर काम करना होगा.