close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

15 दिसंबर को उत्तराखंड बीजेपी को मिलेगा नया अध्यक्ष, इस बड़े नेता ने की घोषणा

भाजपा प्रदेश चुनाव पदाधिकारी बलवंत सिंह भौर्याल ने जी मीडिया से हुई खास बातचीत में बताया कि कि पार्टी पहले चरण में सक्रिय सदस्य बनाने जा रही है. इसी के साथ ब्लॉक और जिला स्तर के पदाधिकारियों का चुनाव होगा.

15 दिसंबर को उत्तराखंड बीजेपी को मिलेगा नया अध्यक्ष, इस बड़े नेता ने की घोषणा
सितंबर से पार्टी के संगठन के चुनाव की प्रक्रिया शुरू होने जा रही है (फाइल फोटो)

देहरादून: उत्तराखंड में बीजेपी को नया प्रदेश अध्यक्ष मिलने का वक्त सामने आ चुका है. अगर सबकुछ सही रहा तो 15 दिसंबर को भाजपा के उत्तराखंड ईकाई के नए अध्यक्ष के नाम का खुलासा हो सकता है. भाजपा प्रदेश चुनाव पदाधिकारी बलवंत सिंह भौर्याल ने जी मीडिया से हुई खास बातचीत में बताया कि कि पार्टी पहले चरण में सक्रिय सदस्य बनाने जा रही है. इसी के साथ ब्लॉक और जिला स्तर के पदाधिकारियों का चुनाव होगा. जिसके बाद 1 दिसंबर से 15 दिसंबर के बीच प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव होगा.

भाजपा के प्रदेश चुनाव प्रभारी ने कही यह बड़ी बात
भाजपा के प्रदेश चुनाव प्रभारी बलवंत सिंह भौर्याल के दावे के आधार पर यह बात मजबूती के साथ कही जा सकती है कि 15 दिसंबर को उत्तराखंड के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के नाम की घोषणा हो सकती है. गौरतलब है कि सितंबर से पार्टी के संगठन के चुनाव की प्रक्रिया शुरू होने जा रही है. इस दौरान पार्टी बूथ लेवल से लेकर जिला और प्रदेश स्तर तक पदाधिकारियों के चुनाव करेगी. 

इस वजह से उत्तराखंड में खोजा जा रहा है नया अध्यक्ष
आपको बता दें कि जेपी नड्डा के बीजेपी का कार्यकारी अध्यक्ष बनने के साथ ही उत्तराखंड में भी नए अध्यक्ष या एक कार्यकारी अध्यक्ष के नियुक्ति की सुगबुगाहट तेज हो गई थी. तमाम चेहरों की चर्चा भी हुई लेकिन आधिकारिक घोषणा किसी के नाम की नहीं हुई. आपको बता दें कि उत्तराखंड में भाजपा की स्थिति काफी कुछ केंद्र जैसी ही है. जिस तरह बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के केंद्र में गृह मंत्री बनने के बाद बीजेपी को उनकी व्यस्तताओं के मद्देनजर एक नया अध्यक्ष ढूंढना पड़ा और जेपी नड्डा को कार्यकारी अध्यक्ष बनाया गया. ठीक उसी तरह उत्तराखंड में भी बीजेपी अध्यक्ष अजय भट्ट नैनीताल-ऊधम सिंह नगर सीट से लोकसभा का चुनाव जीत कर केंद्र की राजनीति में कूच कर चुके हैं. यही वजह है कि राज्य में नए प्रदेश अध्यक्ष की जरूरत महसूस हो रही है.