NRC विवाद पर बोले हरीश रावत, BJP जनता का ध्यान अन्य मुद्दों से भटकाना चाहती है

हरीश रावत ने कहा कि NRC कांग्रेस की ही देन है. बीजेपी ने केवल इसे लागू किया है. उनके मुताबिक, बीजेपी नेताओं को NRC के बारे में ज्यादा जानकारी भी नहीं है. 

NRC विवाद पर बोले हरीश रावत, BJP जनता का ध्यान अन्य मुद्दों से भटकाना चाहती है

नई दिल्ली: उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को कहा था कि अगर जरूरत पड़ी तो प्रदेश में भी NRC को लागू किया जाएगा. उनके इस बयान के बाद राजनीति तेज हो गई. उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि NRC कांग्रेस की ही देन है. बीजेपी ने केवल इसे लागू किया है. उन्होंने तो यहां तक कहा कि बीजेपी को NRC के बारे में ज्यादा जानकारी भी नहीं है. बता दें, त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखंड एक सीमांत राज्य है और इसकी सीमा दूसरे देशों से मिलती है. ऐसे में यहां अवैध घुसपैठ की पूरी संभावना रहती है. राज्य की आंतरिक और देश की सुरक्षा के लिए NRC की जरूरत है. इसको लेकर कैबिनेट के सदस्यों के साथ चर्चा की जाएगी.

हरीश रावत से जब ये पूछा गया कि असम में इसे लागू करने के बाद बीजेपी शासित कई प्रदेशों में इसे लागू करने की बात की जा रही है. जवाब में उन्होंने कहा कि NRC का मतलब बीजेपी के लोगों द्वारा क्या समझा जा रहा है यह मुझे नहीं पता चल रहा है. जब इसे पूरे देश में लागू करने की बात की जाएगी तब हम अपनी रणनीति बनाएंगे. बता दें, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर बयान दे चुके हैं कि वे अपने-अपने प्रदेशों में NRC को लागू कर सकते हैं. दिल्ली बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी ने तो दिल्ली में भी NRC लागू करने की मांग की है.

हरीश रावत ने यह भी कहा कि देश की अर्थव्यवस्था का हाल ठीक नहीं है. विकास दर लगातार घट रही है. बेरोजगारी की समस्या विकराल होती जा रही है. ऐसे में इन तमाम मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए बीजेपी NRC के मुद्दे को बेवजह तूल दे रही है.