close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उत्तराखंड सरकार करेगी समीक्षा बैठक, मंत्रियों के विभागों में हो सकता है फेरबदल

 मुख्यमंत्री ने पहले भी मंत्रियों की मौजूदगी में समीक्षा प्रक्रिया पहले भी की है. लेकिन इस बार की समीक्षाएं कुछ खास हैं. अब सरकार बने ढाई साल का समय हो गया है. ऐसे में जिन कामों का एजेंडा शुरू में तैयार किया गया, उनकी अब वास्तविक स्थिति क्या है?

उत्तराखंड सरकार करेगी समीक्षा बैठक, मंत्रियों के विभागों में हो सकता है फेरबदल
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (फाइल फोटो)

देहरादून: उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत समीक्षा बैठक करने जा रहे हैं. लेकिन इस बार विभागों के साथ-साथ मंत्रियों की परफॉर्मेंस भी इस समीक्षा का हिस्सा है. अगस्त के पहले हफ्ते में समीक्षा बैठक होंगी. मंत्रियों के विभागों में फेरबदल के तौर पर भी इसे देखा जा रहा है. 

उत्तराखंड में एक बार फिर समीक्षाओं का दौर शुरू होने जा रह है. बीजेपी की सरकार बनने के बाद पिछले ढाई साल में क्या क्या हासिल हुआ और क्या क्या बचा हुआ है, इस पर ज्यादा फोकस होना है. बीजेपी ने 2017 के विधानसभा चुनाव में जो वायदे जनता से किये थे, उन पर क्या क्या काम हुआ. सरकार से जुड़े लोग मानते हैं कि ये एक रूटीन प्रक्रिया है. समय-समय पर इस तरह की समीक्षाएं पहले भी होती रही है. 

वास्तव में मुख्यमंत्री ने पहले भी मंत्रियों की मौजूदगी में समीक्षा प्रक्रिया पहले भी की है. लेकिन इस बार की समीक्षाएं कुछ खास हैं. अब सरकार बने ढाई साल का समय हो गया है. ऐसे में जिन कामों का एजेंडा शुरू में तैयार किया गया, उनकी अब वास्तविक स्थिति क्या है? इस समय इस समीक्षा के दूसरे पहलू पर भी चर्चा हो रही है. जानकारों का कहना है कि मुख्यमंत्री अच्छे काम करने वाले मंत्री को कई महत्वपूर्ण विभाग देकर मंत्रियों के दायित्वों में भी बदलाव कर सकते हैं. 

लाइव टीवी देखें

मुख्यमंत्री के पास अभी पीडव्लूयूडी, स्वास्थ्य, गृह ,ऊर्जा जैसे बड़े विभाग पहले से ही थे. कैबिनेट में उनके सहयोगी रहे प्रकाश पंत के निधन के बाद आबकारी, पेयजल, वित्त, और गन्ना जैसे महत्वपूर्ण विभाग भी सीएम त्रिवेंद्र रावत ही संभाल रहे हैं. ऐसे में चर्चा ये है की मुख्यमंत्री कुछ विभाग अपने कैबिनेट के सहयोगियों को भी दे सकते हैं. 
 
बीजेपी जब अपना घोषणा पत्र बना रही थी तो उसमे आरएसएस ने भी अपने कई सुझाव दिए थे. अब बीजेपी को उन सभी घोषणाओं की भी समीक्षा करनी है जो संघ की विचारधारा के करीब है.