close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उत्‍तराखंड : आजादी के 71 साल बाद भी इस गांव में नहीं पहुंची बिजली, अंधेरे में गुजर रहा जीवन

उत्‍तराखंड के गंगानगर गांव के लोगों को आज भी है बिजली का इंतजार. 

उत्‍तराखंड : आजादी के 71 साल बाद भी इस गांव में नहीं पहुंची बिजली, अंधेरे में गुजर रहा जीवन
गांव के बच्‍चे लालटेन की रौशनी में पढ़ने को मजबूर. (फोटो ANI)

नैनीताल : देश के सभी गांवों में बिजली पहुंचा देने का दावा उत्‍तराखंड के एक गांव में खोखला साबित हो रहा है. यहां के गंगानगर के गांव वाले आज भी बिना बिजली के जीवनयापन करने को मजबूर हैं. य‍ह गांव हल्द्वानी शहर से मात्र पांच किलोमीटर दूर स्थित है.

बच्‍चे सुबह ही निपटा लेते हैं होमवर्क
गंगानगर गांव में जिन बच्चों को पढ़ाई करनी होती है वो बच्चे दिन में उजाले के समय स्कूल का सारा काम निपटा लेते हैं. 70 परिवारों वाले इस गांव में लोग आज भी लालटेन, मोमबत्ती के सहारे बसर कर रहे हैं. हालांकि, ऊर्जा निगम के स्तर पर गांव में कनेक्शन के प्रयास तो किए गए हैं. लेकिन वन विभाग का पेंच गांव की रोशनी की राह में बाधा बना हुआ है और इस बाधा को दूर करने के प्रयास में सरकारी की सुस्ती हावी है.

ग्रामीणों ने दिया ज्ञापन
गंगानगर में 1977 में गृह विहीन मजदूर समिति के सदस्यों को हल्द्वानी वन प्रभाग ने 172 आवासीय पट्टे आवंटित किए थे. अब यहां 70 पट्टाधारक रह गए हैं. पट्टाधारकों को यह लीज 30 साल में रिन्यू करवानी थी. ऐसे में यहां के लोगों ने वर्ष 2007 में मूल पट्टे हल्द्वानी वन प्रभाग में जमा करा दिए, लेकिन तब से अब तक 11 साल बाद भी पट्टों का नवीनीकरण नहीं किया गया है. हाल में ग्रामीणों ने वन विभाग के आलाधिकारियों को ज्ञापन देकर नवीनीकरण की मांग की है.

 

शादी में हो रही है दिक्‍कत
ग्रामीण बताते हैं कि उनकी समस्या को लेकर उन्होंने कई मुख्यमंत्रियों मुलाकात की. जिसके चलते हल्द्वानी डीएफओ को निर्देश दिए लेकिन वन प्रभाग से अब तक अनुमति नहीं मिली. विडंबना देखिये कि इस गांव में लोगों के पास मोबाइल हैं, लेकिन इन्हें चार्ज करने के लिए काठगोदाम पुल के पार दुकानों में जाते हैं. यही नहीं गांव के युवकों के लिए किसी लड़की का रिश्ता शादी के लिए आता भी है तो यह कहकर रिश्ता टूट जाता है कि उनकी लड़की बिना बिजली वाले गांव में नहीं रहेगी.

डीएम ने दिया जांच का आश्‍वासन
नैनीताल के जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन के मुताबिक मामला संज्ञान में है लिहाजा देखा जा रहा है कि इस पूरे मामले में पेंच कहां फंसा हुआ है. ग्रामीणों को दिक्कत ना हो इसके लिए सोलर लाइट की व्‍यवस्‍था की गई है. गांव में बिजली जल्द पहुंचाई जाए इसके लिए शासन स्तर पर बातचीत भी की जा रही है.