close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उत्तराखंड होगा कुपोषण मुक्त, राष्ट्रीय पोषण मिशन कार्यक्रम का आगाज

महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पोषण अभियान की शुरुआत वर्ष 2018 में की थी जिसका मुख्य उदेश्य है कि हमें अपने देश को एक सशक्त देश बनाना है. 

उत्तराखंड होगा कुपोषण मुक्त, राष्ट्रीय पोषण मिशन कार्यक्रम का आगाज
फाइल फोटो.

हरिद्वार: आज हरिद्वार के ज्वालापुर में महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग द्वारा कुपोषण मुक्त जनपद बनाने के लिए राष्ट्रीय पोषण मिशन कार्यक्रम का आयोजन किया गया. कार्यक्रम में बच्चों को कुपोषण से मुक्त कराने के लिए किन किन सामग्री और दवाइयों को उपयोग करना चाहिए उन सभी की प्रदर्शनी लगाई गई. कार्यक्रम में महामहिम राज्यपाल बेबी रानी मौर्य  और महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य मौजूद रहीं.

कार्यक्रम में लगी प्रदर्शनी का राज्यपाल ने निरीक्षण कर सभी सामग्रियों के बारे में जानकारी ली. इस मौके पर राज्यपाल ने कहा कि हरिद्वार में कुपोषित बच्चों की संख्या में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है, जिसकी रोकथाम करने के लिए आज यहां महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग द्वारा एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया. राज्यपाल ने बताया कि पोग्राम में बच्चों के लिए फल , दूध , सब्जियां  भरपूर मात्रा में बांटे गए हैं और लगातार जगह जगह बच्चों को कुपोषण का शिकार से बचाने के लिए पौष्टिक सामान मिलना जरूरी है. इस कार्यक्रम के माध्यम से अन्य लोगों के बीच भी जागरूता फैलाई जा रही है.

इस मौके पर महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पोषण अभियान की शुरुआत वर्ष 2018 में की थी जिसका मुख्य उदेश्य है कि हमें अपने देश को एक सशक्त देश बनाना है.  गर्भवती महिलाओं को शारीरिक रूप से स्वस्थ बनाना है. मंत्री रेखा आर्य ने बताया कि प्रदेश भर में लगभग 17 हजार बच्चे कुपोषण के शिकार हैं , जिसमें से 1700 बच्चे अति कुपोषण के शिकार हैं. 

उन्होंने कहा कि इसी बात को देखते हुए उत्तराखंड सरकार का एक प्रयास है कि कुपोषित बच्चें और अति कुपोषित बच्चों को आंगनवाड़ी केंद्रों से टीएचआर मिले. उन्होंने बताया कि उत्तराखंड सरकार ने इस अभियान को जन आंदोलन में बदलने के लिए उन्होंने एक-एक बच्चे को गोद लिए जाने की शुरुआत की है. उन्होंने बताया कि जिसकी शुरुआत उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने की. त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने एक बच्चे को गोद लिया. राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने भी एक बच्चे को गोद लिया. उन्होंने कहा कि हमारा जो लक्ष्य है कि 2020 तक हमें उत्तराखंड के सभी बच्चों को कुपोषण मुक्त कराना है, उसी तरफ उत्तराखंड सरकार कार्य कर रही है.