UP: वाराणसी पहुंचा टिड्डियों का दल, प्रशासन ने की हमले से बचने की तैयारी

जिला प्रशासन ने सतर्क होते हुए अपने सभी प्रशासनिक अधिकारियों को अलर्ट कर दिया है. जिस तरह से वाराणसी का आसमान में लाखों की संख्या में टिड्डियों का दल देखने को मिला उससे कहीं ना कहीं किसानों का बड़ा नुकसान होने की आशंका है. 

UP: वाराणसी पहुंचा टिड्डियों का दल, प्रशासन ने की हमले से बचने की तैयारी
प्रतीकात्मक फोटो

वाराणसी: इस वर्ष टिड्डी दल के हमले से देश के कई राज्यों में फसलों का काफी नुकसान हो चुका है. उत्तर भारत के भी कई राज्यों में टिड्डियों के दल ने हमला किया है. सूबे के कई जिलों में टिड्डियों के दल ने हमला बोला है. कहीं उन पर रसायनिक स्प्रे से हमले को नाकाम किया गया तो कहीं किसानों ने पारंपरिक तरीक से उन्हें नुकसान करने से रोका. फिलहाल टिड्डियों के छोटे दल को अब वाराणसी में भी देखा गया है. 

वाराणसी के आसमान पर अचानक लाखों की संख्या में टिड्डी दलों को देखा गया. जिसके बाद किसानों सहित आम जनता के चेहरे पर चिंता साफ देखी जा रही है. लोग हैरान परेशान नजर आ रहे थे क्योंकि वाराणसी में इतनी संख्या में अचानक टिड्डी दलों का दल दक्षिण पूर्व दिशा से होता हुआ उत्तर पूर्व दिशा की ओर बढ़ता हुआ देखा जा रहा है. 

प्रशासन हमले से निपटने की कोशिश में जुटा 
जिला प्रशासन ने सतर्क होते हुए अपने सभी प्रशासनिक अधिकारियों को अलर्ट कर दिया है. जिस तरह से वाराणसी का आसमान में लाखों की संख्या में टिड्डियों का दल देखने को मिला उससे कहीं ना कहीं किसानों का बड़ा नुकसान होने की आशंका है. पहले ही वे डीजल और पेट्रोल की कीमतों से परेशान हैं और अब टिड्डी दल के हमले से उनकी फसलें खराब हो सकती हैं. ऐसे में जिला प्रशासन ने जैसे ही वाराणसी के आसमान में टिड्डी दलों को देखा उसके बाद अलर्ट होते हुए ऑपरेशन की बात कर रहा है.

इसे भी पढ़िए: लखनऊ से दिल्ली के लिए हर दो घंटे में होगी AC बस, किराया पहले से भी कम 

टिड्डी दल से ऐसे बच सकते हैं 
किसानों को टिड्डी दल के आने पर शोर मचाना होता है. तरह-तरह की उपकरणों का शोर सुनकर टिड्डियां अपना डेरा नहीं जमातीं. प्रशासन की ओर से बलुई मिट्टी वाले खेतों में पानी भरने को कहा जाता है क्योंकि ये जगह इनके प्रजनन के लिए अनुकूल होती है. इसके अलावा प्रशासन की सहायता से उन इलाकों में रासायनिक स्प्रे से छिड़काव किया जाता है, जहां इनके रात्रि विश्राम की संभावना हो. टिड्डी दल से अगर बचाव न किया जाए तो ये हरी फसलों को चट कर जाती हैं. 

WATCH LIVE TV