टीचर के ट्रांसफर पर फूट-फूटकर रोये बच्चे, लिपटकर बोले- प्लीज सर, मत जाइये...

रामपुर के शादीनगर हजीरा के प्राथमिक विद्यालय में गुरू और शिष्य के बीच आत्मीयता के दृश्य ने भाव विभोर कर दिया. यहां सेवारत सहायक शिक्षक कश्मीर सिंह का तबादला कर दिया गया है.

टीचर के ट्रांसफर पर फूट-फूटकर रोये बच्चे, लिपटकर बोले- प्लीज सर, मत जाइये...
कश्मीर सिंह ने सितंबर 2018 से 2019 तक में ही बच्चों का दिल जीत लिया. जब उन्होंने स्कूल में जॉइन किया था, तब वहां 170 स्टूडेंटस थे. उनकी मेहनत से 210 स्टूडेंटस हो गए.

रामपुर: उत्तर प्रदेश के रामपुर का एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है. इस वीडियो में एक स्कूल के बच्चे खूब रो रहे हैं. इनके रोने के पीछे की वजह जानकर आप हैरान रह जाएंगे. बच्चों के रोने का कारण है कि इनके टीचर का तबादला हो गया है. दरअसल, रामपुर के शादीनगर हजीरा के प्राथमिक विद्यालय में गुरू और शिष्य के बीच आत्मीयता के दृश्य ने भाव विभोर कर दिया. यहां सेवारत सहायक शिक्षक कश्मीर सिंह का तबादला कर दिया गया है.

जब विदाई का समय आया तो छात्र-छात्राएं उनसे चिपट गए और फफक-फफक कर रोने लगे. यह मंजर देखकर गुरू और अन्य स्टाफ की आंखों से भी आंसू छलक आए. इनमे से एक टीचर ने ये वीडियो बना ली. रामपुर के क्षेत्र के शादीनगर हजीरा स्थित प्राथमिक विद्यालय को मॉडल स्कूल घोषित किया गया है. अब यहां इंग्लिश मीडियम से पढ़ाई होगी. इसके लिए यहां स्टाफ भी बदला गया है. इसी क्रम में यहां सेवारत सहायक अध्यापक कश्मीर सिंह का तबादला अथवा समायोजन पुस्वाड़ा न्याय पंचायत के कुंवरपुर स्थित प्राथमिक विद्यालय में कर दिया गया.

कश्मीर सिंह ने सितंबर 2018 से 2019 तक में ही बच्चों का दिल जीत लिया. जब उन्होंने स्कूल में जॉइन किया था, तब वहां 170 स्टूडेंटस थे. उनकी मेहनत से 210 स्टूडेंटस हो गए. कश्मीर सिंह बताते हैं कि अब ये स्कूल इंग्लिश मीडियम हो गया है और उनके पास इंटर में इंग्लिश नही थी. इस वजह से उनको इस स्कूल से बीएसए के आदेश पर हटना पड़ा.

 

कश्मीर सिंह कहते हैं कि वह बच्चों को पढ़ाने में रूचि के साथ ही आत्मीयता का प्रदर्शन भी करते थे. एक अभिभावक की तरह बच्चों को स्कूल में पढ़ाते थे. जिसके चलते जब छात्र-छात्राओं को उनकी विदाई दिए जाने का पता चला तो उनके चेहरे उतर गए. विदाई समारोह में बच्चे उनसे लिपट गए और न जाने का आग्रह किया. साथ ही बच्चे इतने भावुक हो गए कि फफक-फफक कर रोने लगे.