Video: इंसान को बचाने के लिए हाथी के बच्चे ने लगा दी जान की बाजी

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें हम देख सकते हैं कि एक व्यक्ति पानी में डूबने की कगार पर है. हाथी का बच्चा जैसे ही यह देखता है, वह अपनी जान की परवाह किए बिना दौड़ कर शख्स को बचाने आ जाता है. हालांकि देखने से ऐसा लग रहा है कि यह शख्स हाथियों का ट्रेनर है और उनके साथ मस्ती करने के लिए यह वीडियो बनाया गया है. लेकिन हाथी ने जो किया, वह फिल्मी नहीं बल्कि सच था. ट्विटर पर आशीष चौहान @ashishchauhan के अकाउंट से यह वीडियो पोस्ट किया गया है. और उन्होंने कैप्शन में सवाल किया है कि क्या हम इतने बड़े दिल वाले पशुओं के लायक हैं भी?

Jan 19, 2021, 11:09 AM IST

ट्रेंडिंग न्यूज़

किसके घर की घंटी बजाकर भागे Rohit Sharma और Kuldeep Yadav? हिटमैन ने खुद दिया जवाब

किसके घर की घंटी बजाकर भागे Rohit Sharma और Kuldeep Yadav? हिटमैन ने खुद दिया जवाब

बड़े काम की चीज हैं बाजरा और रागी के आटे से बनी रोटियां, मिलते हैं यह 5 जबरदस्त फायदे...

बड़े काम की चीज हैं बाजरा और रागी के आटे से बनी रोटियां, मिलते हैं यह 5 जबरदस्त फायदे...

फिर चालू हुई टाइगर श्रॉफ की 'हीरोपंती'

फिर चालू हुई टाइगर श्रॉफ की 'हीरोपंती'

यूपी पंचायत चुनाव: इन जिलों में जारी हो चुकी है आरक्षण सूची, देखिए किसके लिए कितनी सीटें रिजर्व

यूपी पंचायत चुनाव: इन जिलों में जारी हो चुकी है आरक्षण सूची, देखिए किसके लिए कितनी सीटें रिजर्व

Team India को झटका, आने वाले इन टूर्नामेंट्स में नहीं खेलेंगे Jasprit Bumrah

Team India को झटका, आने वाले इन टूर्नामेंट्स में नहीं खेलेंगे Jasprit Bumrah

Bihar: Asaduddin Owaisi की नीतीश सरकार को चेतावनी, सीमांचल में विकास कार्यों को लेकर कही ये बात

Bihar: Asaduddin Owaisi की नीतीश सरकार को चेतावनी, सीमांचल में विकास कार्यों को लेकर कही ये बात

Jaipur: फल सब्ज़ी पर आढ़त कम करने का विरोध, मंत्रियों से मिला मुहाना मंडी कारोबारी दल

Jaipur: फल सब्ज़ी पर आढ़त कम करने का विरोध, मंत्रियों से मिला मुहाना मंडी कारोबारी दल

पिटाई से आहत युवती ने मौत को लगाया गले, सुसाइड नोट लिख बताई वजह

पिटाई से आहत युवती ने मौत को लगाया गले, सुसाइड नोट लिख बताई वजह

ରାଜ୍ୟର ଘରୋଇ କମ୍ପାନୀ ନିଯୁକ୍ତିରେ ସ୍ଥାନୀୟ ବାସିନ୍ଦାଙ୍କୁ ୭୫% ସଂରକ୍ଷଣ

ରାଜ୍ୟର ଘରୋଇ କମ୍ପାନୀ ନିଯୁକ୍ତିରେ ସ୍ଥାନୀୟ ବାସିନ୍ଦାଙ୍କୁ ୭୫% ସଂରକ୍ଷଣ

Taal Thok Ke: 'टुकड़े-टुकड़े' होने की ओर Congress?