यूपी में भारत बंद का असर : कई जिलों में हिंसा व आगजनी, मुजफ्फरनगर में 1 की मौत

एससी/एसटी एक्ट में बदलाव का विरोध कर रहे हैं दलित संगठन, हिंसा को देखतेे हुए प्रदेश में हाईअलर्ट जारी, कई जिलों तक पहुंची हिंसा.

यूपी में भारत बंद का असर : कई जिलों में हिंसा व आगजनी, मुजफ्फरनगर में 1 की मौत
मुजफ्फरनगर में भीड़ ने फूंकी कई गाडि़यां. (फोटो- ANI)

नई दिल्‍ली : अनुसूचित जाति, जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम (एससी/एसटी एक्ट) को लेकर आए सुप्रीम कोर्ट के हालिया फैसले के विरोध में दलित और आदिवासी संगठनों ने आज (2 अप्रैल) भारत बंद का ऐलान किया है. इस दौरान देश के अलग-अलग हिस्‍सों में हिंसा देखने को मिल रही है. प्रदर्शनकारियों ने मुजफ्फरनगर में मंडी थाने पर हमला बोल दिया. इसमें कई पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. प्रदर्शनकारियों ने थाने के बाहर खड़े कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया. उन्‍होंने कुछ बसों को भी फूंक दिया. बैंक के बाहर खड़ी एक कैश वैन को भी प्रदर्शनकारियों ने आग के हवाले कर दिया. मुजफ्फरनगर में भड़की हिंसा में एक व्‍यक्ति की मौत भी हो गई है. कई अन्‍य शहरों में भी उग्र प्रदर्शन देखने को मिल रहा है. मेरठ में पुलिस चौकी में आग लगा दी. वहीं आगरा में सड़क पर उतरे प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प भी हुई.

 

मथुरा में दलित प्रदर्शनकारियों ने ट्रेन रोकी. प्रदर्शन और हिंसा को देखते हुए पूरे यूपी में हाईअलर्ट जारी कर दिया गया है. हापुड़ में भी पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच भी झड़प हुई. आजमगढ़ में भी उग्र भीड़ ने बस को आग के हवाले कर दिया. हिंसा को देखते हुए मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने दलित संगठनों से शांति की अपील की है. मुरादाबाद में भी प्रदर्शनकारियों ने काठगोदाम एक्‍सप्रेस को रोक लिया. इसके अलावा मालगाड़ी को भी रोका गया है. मेरठ एसएसपी मंजिल सैनी के अनुसार करीब 200 प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया गया है. उनके खिलाफ केस दर्ज करने की कार्रवाई चल रही है.

 

Violence in UP over Bharat bandh against change in SC/ST act
भारत बंद के दौरान आजमगढ़ में रोडवेज की बस को फूंका गया है. (फोटो-ANI)

यह भी पढ़ें : भारत बंद LIVE: मुरैना में प्रदर्शन के दौरान गोलीबारी में एक युवक की मौत, यूपी-बिहार में कई जगह आगजनी

मेरठ में पुलिस चौकी को लगाई आग
एससी/एसटी एक्‍ट में बदलाव का विरोध कर रहे दलित संगठनों के प्रदर्शनकारियों ने मेरठ में कंकरखेड़ा थाने की शोभापुर पुलिस चौकी को आग लगा दी. इस दौरान शहर में सैकड़ों की संख्‍या में प्रदर्शनकारी विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. मेरठ में ही इन प्रदर्शनकारियों ने सड़कों पर उतरकर कारों व अन्‍य वाहनों के शीशे भी तोड़े और पथराव भी किया. मेरठ में प्रदर्शनकारियों पर को पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया. प्रदर्शन का असर दिल्ली और देहरादून हाईवे पर भी पड़ा है. हाईवे पूरी तरह बंद हो गया है. इसके चलते हरिद्वार, ऋषिकेश और देहरादून जाने वाले लोग फंस गए हैं. मेरठ में 2 बसों को भी आग के हवाले कर दिया गया है. इसके अलावा कई वाहनों में भी आग लगाई गई है.

 

 

दादरी में भीम आर्मी ने तोड़े बस के शीशे
ग्रेटर नोएडा के दादरी में भीम आर्मी ने भी प्रदर्शन किया है. प्रदर्शनकारियों ने इस दौरान बसों के शीशे तोड़े और अन्‍य वाहनों में तोड़फोड़ करने की कोशिश की. प्रदर्शन कर रहे लोगों को पुलिस ने लाठचार्ज करके खदेड़ा. इसके बाद करीब 18 प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया है. इसके अलावा बागपत के खेकड़ा में भी प्रदर्शनकारियों ने जमकर बवाल काटा. प्रदर्शनकारियों ने दिल्‍ली-सहारनपुर हाईवे जाम कर दिया. इस दारौन राष्‍ट्रपति को संबोधित ज्ञापन भी प्रदर्शनकारियों ने एसडीएम को सौंपा.

 

यह भी पढ़ें : SC/ST एक्‍ट में बदलाव: देशभर में हंगामा क्‍यूं है बरपा?

आगरा में भी बवाल
आगरा में भी दलित संगठनों के बैनर तले सड़कों पर प्रदर्शन करने उतरे प्रदर्शनकारियों ने जमकर बवाल काटा. प्रदर्शनकारियों ने जबरन खुली हुई दुकानों को बंद करवाया. इसके अलावा प्रदर्शनकारियों ने सड़कों पर घूम-घूमकर हंगामा किया. दुकानों और वाहनों में तोड़फोड़ की. साथ ही पुलिस से भी भिड़े. संभल में भी प्रदर्शनकारियों ने जुलूस निकाला और जबरन दुकानें बंद कराईं. व्‍यापारियों ने आरोप लगया है कि इस दौरान उनकी दुकानों में भी तोड़फोड़ और लूट की गई. दुकानदार इसके विरोध में प्रदर्शन पर बैठ गए. 

 

योगी ने की शांति की अपील
मुख्‍यमंत्री योग आदित्‍यनाथ ने SC/ST एक्‍ट में बदलाव के विरोध में यूपी में हो रहे प्रदर्शनों को लेकर दलित संगठनों से शांति की अपील की है. उनका कहना है कि राज्‍य और केंद्र सरकार पिछड़ी जातियों के उत्‍थान के लिए प्रयासरत है. उन्‍होंने अपील की है कि कानून व्‍यवस्‍था को नुकसान न पहुंचाया जाए. उनका कहना है कि अगर कहीं भी कोई मुद्दे हैं तो उन्‍हें सरकार तक लाया जाए.