जब हत्या के आरोपी पुलिसवालों को गिरफ्तार करने में हुए नाकाम, तो कोर्ट ने जारी किया वारंट

अपर शासकीय अधिवक्ता धर्मेंद्र जयंत ने बताया कि इन लोगों की गिरफ्तारी का पुलिस ने काफी प्रयास किया. उनकी गिरफ्तारी ना होने पर क्राइम ब्रांच के इंस्पेक्टर ने जनपद न्यायालय में आवेदन किया. उसके बाद इनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हुआ है.

जब हत्या के आरोपी पुलिसवालों को गिरफ्तार करने में हुए नाकाम, तो कोर्ट ने जारी किया वारंट
मामला बीजेपी नेता समेच तीन लोगों की हत्या का है. (फाइल फोटो)

नोएडा: थाना बिसरख क्षेत्र के तिगरी गांव के पास वर्ष 2017 के नवंबर माह में हुई भाजपा नेता शिव कुमार यादव, उनके गनर रईस पाल, चालक बालीनाथ की हत्या के मामले में जनपद गौतमबुद्ध नगर के सीजीएम विनीत चौधरी ने उत्तर प्रदेश पुलिस में तैनात दारोगा अमित यादव, हेड कांस्टेबल रविंद्र यादव सहित चार लोगों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है.

अपर शासकीय अधिवक्ता धर्मेंद्र जयंत ने बताया कि इन लोगों की गिरफ्तारी का पुलिस ने काफी प्रयास किया. उनकी गिरफ्तारी ना होने पर क्राइम ब्रांच के इंस्पेक्टर ने जनपद न्यायालय में आवेदन किया. उसके बाद इनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हुआ है.

 

उन्होंने बताया कि इस मामले में आरोपी दारोगा के भाई अरुण यादव, कुख्यात बदमाश सुंदर भाटी के भाई सहदेव भाटी, भतीजा अनिल भाटी, शेरू सहित आधा दर्जन लोग पूर्व में गिरफ्तार किए जा चुके हैं. आरोपी दारोगा मौजूदा समय में जनपद जेपी नगर में तैनात है. इस मामले की जांच जनपद मेरठ के आईजी के आदेश पर जनपद गौतमबुद्ध नगर से गाजियाबाद स्थानांतरित की गई थी. वहां की अपराध शाखा इस मामले की जांच कर रही है.

जयंत ने कहा कि घटना की जांच कर रहे इंस्पेक्टर अशोक पाल सिंह की रिपोर्ट के आधार पर कोर्ट ने मंगलवार को दारोगा सहित चार लोगों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है. इस मामले के खुलासे के समय दारोगा अमित यादव व अन्य का नाम सामने नहीं आया था. मृतक के परिजनों ने इस मामले में पुलिस के आला अफसरों से शिकायत की तथा जांच जनपद गाजियाबाद स्थानांतरित कराई गई.