वाराणसी में बारिश के लिए कराई गई मेंढकों की शादी, डीजे पर थिरके लोग और...

मॉनसूम में बारिश नहीं होने पर भगवान इंद्र को खुश करने के लिए वाराणसी में दो मेंढकों की शादी कराई गई.

वाराणसी में बारिश के लिए कराई गई मेंढकों की शादी, डीजे पर थिरके लोग और...
इंद्रदेव को खुश करने के लिए देश के अलग-अलग हिस्सों में मेंढकों की शादी कराई जाती है. (फोटो-ANI)

वाराणसी: इन दिनों पारा अपने चरम पर है. गर्मी की वजह से हर कोई परेशान है. गर्मी से बेहाल हर कोई मॉनसून का इंतजार कर रहा है, लेकिन बारिश होने का नाम ही नहीं ले रही है. ऐसे में इंद्रदेव को खुश करने के लिए वाराणसी में दो मेंढकों की शादी कराई गई. इस दौरान लोग बैंड-बाजे की धुन पर जमकर थिरके. शादी के दौरान जयमाल की रस्म भी निभाई गई और दोनों मेंढकों को जयमाल पहनाया गया. कार्यक्रम को देखकर किसी को यकीन नहीं हो रहा था कि सबकुछ दो मेंढकों की शादी के लिए हो रहा है, जिसका मकसद इंद्रदेव को खुश करना है.

इस कार्यक्रम को लेकर आयोजकों का कहना है कि वाराणसी में पुरानी मान्यता और परंपरा है कि भगवान इंद्रदेव को खुश करने के लिए मेंढकों की शादी कराई जाती है. यह यहां का रिवाज है. इस शादी में लोग शामिल होकर खुद को भाग्यशाली मानते हैं. इसलिए, मॉनसून के इंतजार में मेंढकों की शादी की पुरानी परंपरा है.

 

 

ऐसा नहीं है कि भगवान इंद्र को खुश करने के लिए वाराणसी में ही ऐसा किया जाता है. देश के अलग-अलग हिस्सों में बारिश के इंतजार में ऐसी शादी कराई जाती है. शनिवार को मध्य प्रदेश के छतरपुर में अच्‍छी बारिश के लिए मेंढक-मेंढकी की शादी कराई गई. शादी के दौरान सभी रस्मों को पूरा किया गया.

 

 

शादी के कार्यक्रम में प्रदेश की महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री ललिता यादव भी शामिल हुईं थी.