ड्यूटी के साथ 'मां' का फर्ज निभाती महिला कांस्टेबल का घर के पास हुआ ट्रांसफर

महिला कांस्टेबल अर्चना फिलहाल झांसी में तैनात थीं, लेकिन उनका ट्रांसफर मायके आगरा में कर दिया गया है.

ड्यूटी के साथ 'मां' का फर्ज निभाती महिला कांस्टेबल का घर के पास हुआ ट्रांसफर
DGP ओपी सिंह ने कहा कि अर्चना का जज्बा पुलिस विभाग को प्रेरणा देने वाला है. (फाइल फोटो)

झांसी: ड्यूटी के दौरान छह महीने की बच्ची को लेकर अपना कार्य मुस्तैदी से करने वाली महिला कांस्टेबल अर्चना जयंत की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओ पी सिंह ने इस पर संज्ञान लेते हुए अर्चना का तबादला उसके घर के पास करने का आदेश दिया. ड्यूटी के दौरान भी मां की जिम्मेदारी और खाकी का फर्ज निभाने वाली महिला कांस्टेबल अर्चना की सोशल मीडिया पर फोटो तेजी से वायरल हुई थी. पुलिस महानिदेशक ने ट्वीट कर कहा कि उन्होंने अर्चना से बात की और उसका तबादला उसके घर के पास आगरा करने का आदेश दिया. 

सिंह ने कहा कि अर्चना का जज्बा पुलिस विभाग को प्रेरणा देने वाला है. 21वीं सदी की महिला का यह उत्कृष्ट उदाहरण है जो अपनी जिम्मेदारियों पर यकीन करती है. झांसी जोन के पुलिस उप महानिरीक्षक सुभाष सिंह ने ड्यूटी के प्रति अर्चना के समर्पण की सराहना करते हुए उसे एक हजार रूपये नकद इनाम देने का ऐलान किया.

Woman constable transferred to agra duty with her child

उन्होंने अपने ट्वीट में यह भी कहा कि अर्चना के जज्बे ने उन्हें हर पुलिस लाइन में पालनाघर (क्रेच) खोलने की संभावना तलाशने के लिए भी प्रेरित किया है. इस पूरे मामले को लेकर झांसी के एसएसपी विनोद कुमार सिंह ने कहा कि इस समय जिले में 350 महिला कांस्टेबल तैनात हैं, जिनमें सौ की स्थिति अर्चना की ही तरह है. यानी वे अपने नन्हे बच्चे भी संभाल रही हैं और समर्पण के साथ ड्यूटी भी कर रही हैं.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि अर्चना का परिवार आगरा में रहता है और उसकी ससुराल कानपुर में है. उनका पति गुडगांव की एक निजी कंपनी में काम करता है. सूत्रों ने बताया कि अर्चना ने आगरा में तबादले का विकल्प चुना. अर्चना के एक दस साल की बच्ची भी है.

(इनपुट-भाषा)