महिला ने अस्पताल के टॉयलेट में दिया नवजात को जन्म, डॉक्टर्स पर लगा लापरवाही का आरोप

आरोप है कि अस्पताल में अव्यवस्थाओं व डॉक्टरों की अनदेखी के चलते महिला को परेशानी हुई.

महिला ने अस्पताल के टॉयलेट में दिया नवजात को जन्म, डॉक्टर्स पर लगा लापरवाही का आरोप
टॉयलेट में नवजात के जन्म लेते ही परिजनों ने हॉस्पिटल में हंगामा खड़ा कर दिया.

शामली: जनपद के कांधला CHC में डॉक्टर्स पर बड़ी लापरवाही का आरोप लगा है. यहां पर कांधला कस्बा निवासी एक महिला ने अस्पताल (Hospital) के टॉयलेट में ही नवजात को जन्म दे दिया. आरोप है कि अस्पताल में अव्यवस्थाओं व डॉक्टरों की अनदेखी के चलते महिला को परेशानी भी हुई. बताया जा रहा है कि महिला को अस्पताल में समय पर उपचार नहीं मिला, जिसकी वजह से महिला को प्रसव पीड़ा उत्पन्न हुई और उसने टॉयलेट में ही नवजात को जन्म दे दिया. 

मिली जानकारी के मुताबिक, टॉयलेट में नवजात के जन्म लेते ही परिजनों ने हॉस्पिटल में हंगामा खड़ा कर दिया. मौके पर एकाएक डॉक्टर एकजुट हो गए और आनन-फानन में जच्चा-बच्चा को वार्ड में शिफ्ट किया गया. जहां पर फिलहाल दोनों की हालत सामान्य बताई जा रही है. 

बताया जा रहा है कि खेल मौहल्ला निवासी खुशनुमा को प्रसव पीड़ा उत्पन्न होने के बाद उसकी सास कांधला सीएचसी लाई. लेकिन महिला की सास का आरोप है कि इस दौरान अस्पताल में डॉक्टर मौजूद नहीं थे. पूछने पर बताया गया कि डॉक्टर खाना बनाने के लिए घर पर गई हुई है. इस दौरान पीड़िता की प्रसव पीड़ा कम होने का नाम नहीं ले रही थी, अचानक बढ़े हुए दर्द से कराहते हुए महिला अस्पताल के टॉयलेट में जा पहुंची और नवजात को जन्म दे दिया. इस मामले की जानकारी जैसे ही परिजनों को लगी, तो वो अस्पताल पहुंचे और जमकर हंगामा काटा. हॉस्पिटल में परिजनों का हंगामा देख पूरे स्टाफ में अफरा-तफरी मच गई और तुरंत महिला को जच्चा-बच्चा वार्ड में शिफ्ट किया गया. 
इस पूरे मामले पर जब अस्पताल के डॉक्टर्स से सवाल किया गया तो उन्होंने उल्टा मरीज का ही दोष बता दिया. डॉक्टर्स ने कहा कि उक्त महिला उनके पास तक नहीं पहुंची, वो पहले ही टॉयलेट में चली गई और नवजात को जन्म दे दिया. जबकि हमें जैसे ही मामले की जानकारी लगी तो तत्काल महिला और नवजात को वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया. जहां पर दोनों की हालत सामान्य बनी हुई है.
 
उधर इस पूरे मामले में एसीएमओ सफल कुमार का कहना है कि मामला संज्ञान में आया है और हमने चिकित्सा प्रभारी को जांच सौंप दी है. जांच के बाद लापरवाह कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.