UP: जेवर और IGI एयरपोर्ट के बीच घटेगी दूरी, महज 50 मिनट में तय कर पाएंगे सफर

दोनों हवाई अड्डों के बीच की 72 किलोमीटर की दूरी को महज 50 मिनट में पूरी करने की तैयारी है. दूरी को घटना के लिए मल्टीमॉडल कनेक्टिविटी का सर्वे भी शुरू हो गया है.   

UP: जेवर और IGI एयरपोर्ट के बीच घटेगी दूरी, महज 50 मिनट में तय कर पाएंगे सफर
यमुना प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉ अरुण वीर सिंह ने बताया कि जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट से आईजीआई की कनेक्टिविटी के लिए प्लान तैयार किया जा रहा है.

ग्रेटर नोएडा: इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे और जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के बीच की दूरी को कम करने के लिए यमुना अथॉरिटी ने मास्टर प्लान तैयार किया है. दोनों हवाई अड्डों के बीच की 72 किलोमीटर की दूरी को महज 50 मिनट में पूरी करने की तैयारी है.

दूरी को घटना के लिए मल्टीमॉडल कनेक्टिविटी का सर्वे शुरू हो गया है. सर्वे के लिए यमुना प्राधिकरण ने राइट्स एजेंसी को जिम्मेदारी सौंपी है
मास्टर प्लान से घटेगी दूरी
यमुना प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डॉ अरुण वीर सिंह ने बताया कि जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट से आईजीआई की कनेक्टिविटी के लिए प्लान तैयार किया जा रहा है. जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट को बेहतर कनेक्टिविटी के लिए कई ऑप्शन तलाशे गए हैं. जेवर से बॉटेनिकल गार्डन तक मेट्रो प्रस्तावित है, जो कनॉट प्लेस में एयरपोर्ट एक्सप्रेस से जुड़ जाएगी. साथ ही, ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे पर इंटरचेंज अप्रूव कर दिया गया है.

अरुण वीर सिंह ने बताया कि F&G लाइन पर पुल बनाया जा रहा है. उसे सेक्टर-142 से जोड़ा जा सकता है. ऐसे में कनॉट पैलेस की बजाय सीधे जेवर जाया जा सकता है. ऐसे में 72 किलोमीटर का सफर करने के लिए जो 2 घंटे का वक्त लगता है, वो 50 से 55 मिनट में तय किया जा सकेगा.

बता दें कि स्टैंड पेरीफेरल एक्सप्रेसवे और मेट्रो का काम शुरू हो गया है. कनेक्टिविटी पश्चिमी उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा, फरीदाबाद, राजस्थान का हिस्सा है. जिससे एनसीआर से सटे सभी जिलों को भी लाभ मिलेगा.