उत्तराखंड में RSS लगायेगा योग शिविर, बाबा रामदेव देंगें टिप्स, मुस्लिम करेंगें शिरकत

आरएसएस के प्रमुख नेताओं में शामिल इंद्रेश कुमार कई मुस्लिम संगठनों के साथ मिलकर इस कैंप का आयोजन कर रहे हैं.

उत्तराखंड में RSS लगायेगा योग शिविर, बाबा रामदेव देंगें टिप्स, मुस्लिम करेंगें शिरकत
5 दिन तक चलने वाले इस कैंप का उद्घाटन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत करेंगे. (फाइल फोटो)

कोटद्वार: योग को लेकर फैली भ्रांति को मिटाने और मुस्लिमों को संघ के करीब लाने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) अब उत्तरखंड में मुस्लिमों को योग सिखाने की तैयारी कर रहा है. इस योग प्रशिक्षण शिविर में योग गुरू बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण भी योग की बारीकियां सिखाने पहुंचेंगें. मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के साथ आयुष मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत भी इस कैंप में मौजूद रहेंगें.

उत्तराखंड में वैसे तो योग करने के लिए देश विदेश से साधक हर साल पहुंचते रहते हैं. लेकिन, 20 नवंबर से कोटद्वार के पास कण्वाश्रम में होने वाला योग शिविर काफी महत्वपूर्ण होगा. इस योग शिविर में 500 मुस्लिम पुरुष और महिलाएं योग की बारीकियां सीखने के लिए शामिल हो रहे हैं. आरएसएस के प्रमुख नेताओं में शामिल इंद्रेश कुमार कई मुस्लिम संगठनों के साथ मिलकर इस कैंप का आयोजन कर रहे हैं. 5 दिन तक चलने वाले इस कैंप का उद्घाटन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत करेंगे. 

इस योग शिविर में जाने माने लोग योग और साधना के रहस्य बताएंगे. शिविर में योग गुरू बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण भी योग की बारीकियां मुस्लिम साधकों को सिखाएंगें. मुस्लिमों को संघ के करीब लाने और योग करवाने की ये कोशिश उत्तराखंड में पहली बार हो रही है. 

उत्तराखंड के आयुष मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत कहते हैं कि योग मनुष्य को स्वस्थ रखने में सहायक होता है. योग के जरिये तन को स्वस्थ और मन को नियंत्रित किया जाता है. योग ध्यान को किसी धर्म से जोड़कर देखना ठीक नहीं है. योग स्वस्थ रहने का मंत्र है. जामिया तिबिया यूनानी मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर डॉ. मोहम्मद यूनूस काजमी कहते हैं कि योग किसी एक धर्म का नहीं है. ये हमें शारिरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रखने में मदद करता है. डॉ. काजमी कहते हैं कि जो धर्म के नाम पर योग करने से मना करते हैं, वो मानसिक रूप से अक्षम हैं. हम इस शिविर में योग के जरिये अपने शरीर को स्वस्थ रखेंगें और साथ ही नमाज भी अता करेंगें. 

उत्तराखंड में ये पहली बार है जब एक समुदाय विशेष के लिए योग शिविर का आयोजन किया जा रहा है. संघ इस शिविर में प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले लोगों के जरिये योग का संदेश मुस्लिम समुदाय तक देना चाहता है. देखना है कि इस कैंप के जरिये योग को लेकर संघ क्या संदेश मुस्लिमों को दे पाता है.