close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अथॉरिटी के अधिकारियों के साथ CM योगी ने की बैठक, कहा- 'स्मार्ट सिटी की तर्ज पर विकसित करें नोएडा, ग्रेटर नोएडा'

उन्होंने कहा कि स्थानीय युवा प्रतिभाओं की अनदेखी कर क्षेत्र का विकास संभव नहीं है. उनके लिए रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने होंगे. उन्होंने विकास में सबकी भागीदारी और समान विकास पर बल दिया. 

अथॉरिटी के अधिकारियों के साथ CM योगी ने की बैठक, कहा- 'स्मार्ट सिटी की तर्ज पर विकसित करें नोएडा, ग्रेटर नोएडा'
सीएम योगी ने स्थानीय विकास के लिए सभी बुनियादी पहलुओं पर चर्चा की. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुक्रवार (14 जून) को ग्रेटर नोएडा में नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना अथॉरिटी की समीक्षा बैठक की. ये पहला मौका था, जब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री खुद ग्रेटर नोएडा पहुंच कर समीक्षा बैठक की और विकास कार्यों का जायजा लेंगे. जानकारी की मुताबिक, देर शाम करीब 4.30 बजे सीएम योगी ग्रेटर नोएडा पहुंचे और अधिकारियों के साथ बैठक शुरू की, जो देर रात तक चली. इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों को जल्द ही नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना औद्योगिक विकास प्राधिकरणों में सकारात्मक बदलाव दिखाई देगा.

जानकारी के मुताबिक, मुख्यमंत्री ने शाम करीब 4:30 बजे से 7:00 बजे तक तीनों प्राधिकरण के अधिकारियों के साथ बैठक की. मुख्यमंत्री ने उसके बाद जिले के उद्योगपतियों, फ्लैट खरीदारों, बिल्डर्स, सामाजिक संगठन व किसान नेताओं के साथ बैठक की. यह बैठक देर रात करीब 11 बजे तक चली.

उन्होंने प्राधिकरणों के अधिकारियों से खर्च में कमी करने का सुझाव देते हुए बचत की गई धनराशि को विकास योजनाओं पर खर्च करने को कहा. इस दौरान उन्होंने स्थानीय विकास के लिए सभी बुनियादी पहलुओं पर चर्चा की. समीक्षा बैठक के बाद उन्होंने जिले में पूंजी निवेश बढ़ाने और बेहतर औद्योगिक माहौल तैयार करने के लिए औद्योगिक संगठनों से भी मुलाकात की.

 

उन्होंने कहा कि स्थानीय युवा प्रतिभाओं की अनदेखी कर क्षेत्र का विकास संभव नहीं है. उनके लिए रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने होंगे. उन्होंने विकास में सबकी भागीदारी और समान विकास पर बल दिया. मुख्यमंत्री ने नोएडा अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का जिक्र करते हुए कहा कि यह महत्वकांक्षी एवं दीर्घकालीन परियोजना है. कुछ सालों में यह बनकर तैयार हो जाएगा. इसके निर्माण के बाद क्षेत्र में जबरदस्त विकास होगा जिसका प्रभाव दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश सहित पड़ोसी राज्यों पर भी पड़ेगा.