गांव-गांव जाकर बेरोजगारों को ढूंढेगी योगी सरकार, सिखाएगी पैसे कमाने की स्किल

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में बेरोजगारी (Unemployment) का दंश झेल रहे युवाओं के लिए खुशखबरी है. अब योगी सरकार प्रदेश की सैकड़ों ग्राम पंचायतों में मौजूद हर बेरोजगार को प्रशिक्षित करके रोजगार उपलब्ध कराने की मुहिम छेड़ने जा रही है.

गांव-गांव जाकर बेरोजगारों को ढूंढेगी योगी सरकार, सिखाएगी पैसे कमाने की स्किल
बेरोजगारी से निपटने के लिए योगी सरकार लगातार कोशिश में जुटी है.

लखनऊ: दुनियाभर में आर्थिक मंदी (Financial crisis) की आहट के बीच भारत में भी इसकी चर्चा जोरों पर है. उद्योग-धंधे प्रभावित होने के चलते बेरोजगारी (Unemployment) भी बढ़ी समस्या बनी हुई है. इस समस्या से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की योगी सरकार ने पायलट प्रोजेक्ट तैयार किया है. इसके तहत बेरोजगारों को रोजगार के काबिल बनाया जाएगा. खास बात यह है कि इस योजना के तहत उन लोगों पर फोकस किया जाएगा जो शहरों से दूर गांवों में रहते हैं.

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में बेरोजगारी (Unemployment) का दंश झेल रहे युवाओं के लिए खुशखबरी है. अब योगी सरकार प्रदेश की सैकड़ों ग्राम पंचायतों में मौजूद हर बेरोजगार को प्रशिक्षित करके रोजगार उपलब्ध कराने की मुहिम छेड़ने जा रही है. इसके लिए राज्य कौशल विकास मिशन ने एक खास ब्लूप्रिंट तैयार किया है. इसके अंतर्गत अब ग्राम पंचायत स्तर पर ही 'मोबाइल कैंप' के जरिए शिक्षित बेरोजगारों को कौशल विकास का प्रशिक्षण देकर रोजगार लायक बनाएगा. प्रशिक्षण के बाद बेरोजगार युवाओं का प्लेसमेंट भी कराया जाएगा. इस मोबाइल कैंप के जरिए ग्रामीण इलाके के युवकों को घर के नजदीक ही ट्रेनिंग सेंटर में कौशल विकास का प्रशिक्षण दिया जाएगा.

बताया गया है कि सरकार की इस मुहिम से 2 लाख से अधिक बेरोजगार युवा लाभान्वित होंगे. प्रदेश सरकार ने पिछले वित्तीय वर्ष में प्रशिक्षण के लिए तय लक्ष्य 1़ 57 लाख को इस साल बढ़ाकर दो लाख किया गया है. चूंकि सरकार का अधिक जोर ग्रामीण युवकों को रोजगार से जोड़ने पर है, इसलिए सबसे पहले ग्रामीण क्षेत्रों में ही प्रशिक्षण दिया जाएगा. इस संबंध में शासन की ओर से सभी जिलों के जिलाधिकारियों को पत्र लिखा गया है और उन्हें 'मोबाइल कैंप' के आयोजन में मदद का भरोसा दिया गया है.

लाइव टीवी देखें-:

कौशल विकास राज्यमंत्री कपिलदेव अग्रवाल ने बताया कि सरकार की मंशा है कि हर ग्रामीण युवा को भी रोजगार मिले. इसके लिए सरकार अब ठोस तैयारी कर रही है. इसके तहत रोजगार मेले का आयोजन कर उनका प्लेसमेंट कराया जाना है. रोजगार मेले की तारीख तय होनी बाकी है. जल्द ही प्रशिक्षण देने वाली कंपनियों के साथ करार किया जाएगा.

उन्होंने बताया कि प्रशिक्षण लेने के लिए इस साल 6 लाख से अधिक युवकों ने कौशल विकास के पोर्टल पर पंजीकरण कराया है. इनमें से दो लाख युवकों को इसी वर्ष दक्ष किया जाना है.