लोकतंत्र में अपनी बात कहने का अधिकार सबको, भारत बंद का 'कोई मतलब नहीं' : सीएम योगी

एससी-एसटी कानून के विरोध में सवर्ण समुदायों के राष्ट्रव्यापी बंद के आह्वान पर उत्तर प्रदेश में गुरूवार को आम जनजीवन लगभग सामान्य रहा.

लोकतंत्र में अपनी बात कहने का अधिकार सबको, भारत बंद का 'कोई मतलब नहीं' : सीएम योगी
फोटो साभार : @MYogiAdityanath

लखनऊ: एससी-एसटी कानून के विरोध में सवर्ण समुदायों के राष्ट्रव्यापी बंद के आह्वान पर उत्तर प्रदेश में गुरूवार को आम जनजीवन लगभग सामान्य रहा. अभी तक कही से किसी अप्रिय घटना की कोई सूचना नही है. गोंडा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को एससी-एसटी कानून के विरोध में बंद पर कहा कि भारत बंद का कोई मतलब नहीं है, लोगों की अपनी भावनाएं हैं, लोकतंत्र में हर व्यक्ति को अपनी बात कहने का अधिकार है. सीएम योगी गुरुवार को गोंडा जिले के उमरी बेगमगंज में बाढ़ पीड़ितों को राहत सामग्री वितरित करने पहुंचे थे.

बीजेपी जाति और धर्म के आधार पर नहीं करती राजनीति- योगी
मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी इस देश के प्रत्येक व्यक्ति की सुरक्षा, खुशहाली और समृद्धि के लिए प्रतिबद्ध हैं. हमने जाति एवं धर्म के आधार पर कभी राजनीति नहीं की. समाज के दबे कुचले लोगों को संरक्षण देने के लिए यह कानून बनाया है. हम यह सुनिश्चित करेंगे कि इसका किसी भी तरह से दुरुपयोग न हो. इससे पहले जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार ने नाव पलटने, सर्प दंश, बोरवेल में गिरने, सीवेज सफाई के दौरान, जंगली जानवरों के हमले के दौरान मौत होने पर भी चार लाख रुपए की तत्काल सहायता देने का निर्णय लिया है. स्थानीय जनप्रतिनिधियों की मांग पर उन्होंने विस्तृत विचार विमर्श के उपरांत विकास कार्य कराए जाने की घोषणा की.

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार किसी क्षेत्र को उपेक्षित नहीं रहने देगी. वहीं, बताया जा रहा है कि मऊ, बलिया और सोनभद्र जिलों में कुछ स्थानों पर दुकाने आदि बंद रहीं, लेकिन कही से किसी अप्रिय घटना की जानकारी नही है .

(इनपुट भाषा से)