योगी आदित्यनाथ के CAA प्रदर्शनकारियों को दिए जवाब पर जनता ने कहा- #MyYogiRocks

उत्तर प्रदेश विधान सभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद ज्ञापन पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने CAA की मुखालफत करने वाले, अखिलेश यादव और मायावती पर जमकर हमला बोला था. CAA विरोधी प्रदर्शनकारियों पर सरकार की सख्ती का बचाव करते हुए योगी आदित्यनाथ ने तीखा प्रहार किया था. 

योगी आदित्यनाथ के CAA प्रदर्शनकारियों को दिए जवाब पर जनता ने कहा- #MyYogiRocks
योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश विधान सभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद ज्ञापन पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने CAA की मुखालफत करने वाले, अखिलेश यादव और मायावती पर जमकर हमला बोला था. CAA विरोधी प्रदर्शनकारियों पर सरकार की सख्ती का बचाव करते हुए योगी आदित्यनाथ ने तीखा प्रहार किया था.

उन्होंने  कारसेवकों पर गोली चलाने की घटना का जिक्र करते हुए विपक्ष खासकर समाजवादी पार्टी को घेरा जो सरकार के खिलाफ सबसे ज्यादा आक्रमक है. यूपी के मुखिया का ऐसा जोरदार भाषण ट्विटर पर ट्रेंड हो गया. ट्विटर यूजर ने योगी के इस भाषण की तारीफ की और #MyYogiRocks हैश टैग चलाकर इंडिया ट्रेंडिंग में 3 नंबर पर ट्रेंड करा दिया.  

एक यूजर अनुज बाजपेई ने लिखा, ''योगी जी योग में प्रसिद्ध है, शास्त्रों में भी सिद्ध है, ज्ञान में भी सिद्ध है. राजनीति के भी राजा है, सत्य बोलने वाले एकमात्र धर्मराज है, हैं तो क्यों ना कहें हम #MyYogiRocks.

पढ़िए सीएम योगी ने क्या-क्या कहा था.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, "जिन लोगों ने अयोध्या में रामभक्तों पर गोली चला कर रामनगरी की मान्यता को दूषित करने का प्रयास किया था, वो आज उपद्रवियों के खिलाफ होने वाली कार्रवाई पर हमसे जवाब मांग रहे हैं".   

CAA का विरोध करने वालों पर
मुख्यमंत्री ने हिंसा करने वालों को सियासी संरक्षण मिलने का भी शक जताया, उन्होंने कहा , " CAA के खिलाफ हुई हिंसा सोचने पर मजबूर करती है कि आंदोलन की आड़ में जो लोग हिंसा कर रहे थे उनको राजनीतिक संरक्षण तो नहीं मिला था. अगर कोई मरने के लिए आ ही रहा है तो वो जिंदा कहां से हो जाएगा." मुख्यमंत्री यहीं नहीं रुके. राज्य विधानसभा को संबोधित करते हुए कहा, "पुलिस की गोली से कोई नहीं मारा गया. मरने वाले सभी लोग दंगाइयों की गोली से मारे गए हैं. यदि कोई लोगों को निशाना बनाने के इरादे से सड़क पर उतरता है तो या तो वह मरता है या फिर पुलिसकर्मी मरता है."

SP अध्यक्ष अखिलेश यादव पर 
उन्होंने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर भी इशारों-इशारों में हमला बोला. योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लोकतंत्र में हर व्यक्ति को बोलने की आजादी है,लेकिन उन्हें संविधान की मर्यादा को ध्यान में रखना चाहिए. उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने संविधान और महिलाओं की इज्जत को तार-तार किया है वही लोग संविधान और महिला सशक्तिकरण की बात करते हैं.

BSP और टेरर फंडिंग पर
विपक्ष से योगी आदित्यनाथ ने कड़े शब्दों में कहा कि विपक्ष सदन में तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश करता है. योगी ने कहा, "अगर 5 वर्ष के बसपा के शासनकाल की बात करें तो कई चीनी मीलें बंद की गई हैं. जो लोग राष्ट्रीय सुरक्षा को आघात पहुंचाना चाहते हैं और उन्होंने टेरर फंडिंग की. ऐसे लोग जितनी सहानुभूति राष्ट्रीय सुरक्षा को ठेस पहुंचाने वालों से दिखाते हैं उतनी सहानुभूति गरीब किसानों के लिए दिखाते तो हमें प्रशंसा होती".

'अगर कोई मरने के लिए आ ही रहा है तो वो जिंदा कहां से हो जाएगा'