close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

योगी कैबिनेट की अहम बैठक, 20 प्रस्तावों पर लगी मुहर

कैबिनेट बैठक में सैफई AIIMS को लखनऊ SPGI के बराबर भत्ते दिए जाने पर सहमति बनी है. बलरामपुर में 300 बेड का प्रस्तावित श्री अटल बिहारी बाजपेयी KGMU सैटेलाइट कैम्पस की स्थापना के लिए राजस्व विभाग की 6 एकड़ जमीन लिए जाने के प्रस्ताव को भी मंजूरी मिली है.

योगी कैबिनेट की अहम बैठक, 20 प्रस्तावों पर लगी मुहर

नई दिल्ली: आज योगी कैबिनेट की बैठक हुई जिसमें 20 प्रस्तावों पर मुहर लगी है. कैबिनेट बैठक में लिए गए फैसलों को लेकर उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, जिसमें उन्होंने कहा कि यूपी दुकान और अधिष्ठान अधिनियम 4 में संशोधन करने का फैसला किया गया है. इज ऑफ डूइंग बिजनेस के लिए रजिस्ट्रेशन को डबल करने का फैसला किया गया है साथ ही साथ अब बार-बार रेगुलराइजेशन करने की जरूरत नहीं होगी.

सेवायोजन विभाग के उप निदेशक राजीव कुमार द्वारा सरकार के खिलाफ फेसबुक पोस्ट करने के मामले को लेकर उन्होंने कहा कि उन्हें इस मामले में दोषी पाया गया था और 5 जुलाई 2018 को उन्हें निलंबित कर दिया गया था. सरकार ने अब उस फैसले को वापस ले लिया है और उन्हें दोबारा उसी पोस्ट पर तैनात किया जा रहा है.

श्रीकांत शर्मा ने कहा कि जौनपुर में मेडिकल कॉलेज के निर्माण हेतु प्रशासकीय और वित्तीय स्वीकृति प्रदान की गई है. गैर शिक्षण पदों के लिए भी स्वीकृति प्रदान की गई है. इसके अलावा सैफई AIIMS को लखनऊ SPGI के बराबर भत्ते दिए जाने पर सहमति बनी है. बलरामपुर में 300 बेड का प्रस्तावित श्री अटल बिहारी बाजपेयी KGMU सैटेलाइट कैम्पस की स्थापना के लिए राजस्व विभाग की 6 एकड़ जमीन लिए जाने के प्रस्ताव को भी मंजूरी मिली है. कुशीनगर में प्रस्तावित मेडिकल कॉलेज की स्थापना के लिए राजस्व विभाग की 14 एकड़ जमीन लिए जाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई है.

इसके अलावा महात्मा गांदी जयंती के मौके पर खादी ग्रामोद्योग में खादी के कपड़ों पर खुदरा खरीदारी में 5 फीसदी की छूट के प्रस्ताव पर मुहर लगी.  पहल से 20 फीसदी की छूट भी जारी रहेगी. यह छूट 31 मार्च 2020 तक रहेगी. साथ ही कैबिनेट बैठक में यूपी के सभी सात नगर निगम- मेरठ, गाज़ियाबाद, अयोध्या, शाहजहांपुर, फिरोजाबाद , मथुरा-बृंदावन और गोरखपुर को स्मार्ट सिटी के तौर पर विकसित करने का फैसला लिया गया. इसके लिए सरकार प्रतिवर्ष 50 करोड़ रुपये खर्च करेगी.