SP-BSP सरकारों ने गन्ना किसानों को बदहाल किया, योगी ने आते ही खुशहाल कर दिया- सुरेश राणा

गन्ना किसानों की खुशहाली, चीनी मिलों, गन्ना किसानों के भुगतान पर प्रदेश सरकार में गन्ना मंत्री सुरेश राणा ने खास बातचीत की. कृषि कानून का विरोध कर रहे विपक्ष पर उन्होंने कहा कि गमलों की खेती करने वाले हमें ज्ञान दे रहे हैं. 

SP-BSP सरकारों ने गन्ना किसानों को बदहाल किया, योगी ने आते ही खुशहाल कर दिया- सुरेश राणा
Play

लखनऊ: प्रदेश सरकार के गन्ना मंत्री सुरेश राणा ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने गन्ना किसानों की खुशहाली, चीनी मिलों, गन्ना किसानों के भुगतान पर चर्चा की. कृषि कानून का विरोध कर रहे विपक्ष पर उन्होंने कहा कि गमलों में खेती करने वाले हमें ज्ञान दे रहे हैं. हमने उन चीनी मिलों को वापस शुरू किया जिन्हें सपा-बसपा सरकार ने बंद कर दिया था. योगी आदित्यनाथ ने सरकार में आते ही किसानों के आंसू पोछ दिए. सुरेश राणा, योगी सरकार के चार साल पूरे होने पर ज़ी यूपी कॉन्क्लेव कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे थे. उनसे बातचीत की ज़ी मीडिया के संवाददाता राम मोहन शर्मा ने. 

आपके विभाग की उपलब्धि क्या है, इस सवाल के जवाब में गन्ना मंत्री ने कहा कि हम पीएम मोदी के सपने को पूरा कर रहे हैं. योगी सरकार लगातार काम कर रही है. 2017 में जब हम सरकार में आए तो पाया कि 6 सालों से किसानों को भुगतान नहीं मिला था. उन्हें लाठियां मिलती थीं. किसान हताश और निराश था. योगी सरकार ने प्राथमिकता के साथ 10600 करोड़ रुपये का भुगतान किया. पीएम मोदी के टारगेट पर सीएम योगी ने अधिकारियों के साथ विश्लेषण किया. योगी जी ने अभियान चलाया. 10 साल में 29 चीनी मिलें बंद हुईं, 19 बेची गईं. जबकि हमने बंद पड़ी मिलों को पुन: चालू किया. बागपत में चौधरी चरण सिंह के नाम से शुगर मिल लगाई. मेरठ में जाम की वजह से किसानों को परेशानी होती थी, तो 126 करोड़ में मोइनुद्दीन चीनी मिल को शुरू किया. 13 से ज्यादा मिलों की क्षमता को बढ़ाया गया. 

UP Conclave: 4 साल में बना ऐसा माहौल, अपराधियों को उत्तर प्रदेश आने में लगता है डर - कानून मंत्री

चीनी मिलें लगाकर किसानों को श्रद्धांजलि दी
कैसे किसानों का विकास हुआ, इस सवाल के जवाब में गन्ना मंत्री सुरेश राणा ने कहा कि इससे पहले की सरकारों, सपा और बसपा ने जिन मिलों को बंद किया, उन्हें हमने चालू किया. हमारी और बाकी सरकारों में यही फर्क है. गोलियों से जहां किसान शहीद हुए वहां चीनी मिल लगाकर किसानों को श्रद्धांजलि दे रहे हैं. गन्ने से इथेनॉल बनाने वाला पहला राज्य उत्तर प्रदेश है. गोरखपुर, बस्ती में हमने नई मिलें लगाईं. क्षेत्र के किसान खुशहाल हैं. 

APMC लागू कर दी तो विपक्ष परेशान हो गया
पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसान असंतुष्ट क्यों है, क्यों वह दिल्ली का रुख किए हुए हैं, इस सवाल के जवाब में कैबिनेट मंत्री ने कहा कि सपा सरकार में 18 हजार करोड़ मिलते थे, हमने 35 हजार करोड़ दिया. हमने किसानों की आय दोगुनी की. किसानों को नई तकनीक सिखा रहे हैं. पिछली सरकारों ने 15 किलोमीटर दूर क्रशर लगाने का नियम लगा दिया, जिससे किसानों को परेशानी हुई. हमने साढ़े सात किलोमीटर की दूरी पर क्रशर लगाने की नियम बनाया. इससे किसानों को वैकल्पिक रास्ता मिला. मोदी जी चाहते हैं कि किसानों को बाजार मिले, वही काम पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हो रहा है. जिन लोगों ने लगातार कहा था APMC एक्ट में संशोधन करेंगे, उन्होंने नहीं किया, लेकिन केंद्र सरकार ने लागू कर दिया. 2013 से पंजाब में कॉन्ट्रैक्ट फॉर्मिंग हो रही है. 

बिजली देने में हिंदू-मुस्लिम नहीं करते, जनता के भरोसे पर 22 में हम वापसी करेंगे- श्रीकांत शर्मा

कृषि कानून में किसानों की जमीन छीनने जैसा कोई प्रावधान नहीं
इस पूरे कृषि सुधार बिल में किसी एक बिंदु पर कोई किसान नेता बता दे कि कहीं यह चर्चा है कि आपकी जमीन चली जाएगी, क्योंकि जमीन का करार है ही नहीं, शब्द है ही नहीं, शब्द है तो बस फसलों का करार है. किसान जब चाहे तो अपने करार को कैंसिल कर सकता है. यदि कांट्रैक्टर ने कड़ा रुख अपनाया तो सारी कीमत किसान को कांट्रैक्टर देगा. आजाद भारत में पहली बार एमएसपी पर सर्वाधिक खरीद करने का काम नरेंद्र मोदी सरकार ने किया है. जो हमारे किसान भाई हैं, मैं उनसे अनुरोध करना चाहता हूं कि अगर आपके पास कोई सुझाव है जो किसान की आमदनी को दोगुना कर सकता है तो अपना सुझाव दें.

प्रियंका गांधी की यूपी में एंट्री को लेकर बोले स्वत्रंत देव- 'परिवार को लगता है राहुल से नहीं होगी राजनीति'

गमलों में खेती करने वाले हमें ज्ञान न दें
राकेश टिकैत और नरेश टिकैत कांग्रेस की ओर खेल रहे हैं, इस सवाल के जवाब में गन्ना मंत्री ने कहा कि सरकार के दरवाजे खुले हैं. अगर किसी के पास किसानों के हित में कोई बात है तो वह सरकार से बात करें. गमलों में खेती करने वाले लोग हमें बताएंगे कि किसानों का हित कैसे किया जाएगा. किसानों के हित में जितना काम मोदी जी ने किया है उतना किसी सरकार ने नहीं किया. अखिलेश यादव पर हमला बोलते हुए मंत्री ने कहा कि 5 साल में सपा सरकार ने गन्ना किसानों को 95200 करोड़ का भुगतान किया था. उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने 4 साल में गन्ना किसानों को 126000 करोड़ का भुगतान करने का काम किया है.

जमीन पर क्या माहौल है?
जमीन पर माहौल कैसा है? सवाल पर कैबिनेट मंत्री ने कहा कि जमीन पर माहौल है. आज जमीन पर मोदी जी और योगी जी के विकास मॉडल के साथ पूरी जनता खड़ी हुई है. 119 शुगर मिल 1 मिनट के लिए योगी जी ने बंद नहीं होने दी. 6000 करोड़ रुपए का गन्ना किसानों को भुगतान दिया. पूरे देश में कोरोना का संकट आया था, तो उस समय किसानों के खाते में 6000 करोड़ का डीबीटी के माध्यम से भुगतान किया गया. मैं बधाई दूंगा उत्तर प्रदेश के शुगर मिल वालों को जिन्होंने इतना ज्यादा सैनिटाइजर बना दिए कि देश के 23 राज्यों में सैनिटाइजर पहुंचाया गया. 

WATCH LIVE TV