close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: नासिक में गोदावरी का रौद्र रूप, हनुमान जी के घुटनों तक पहुंचा पानी

वीडियो में दिख रह है कि एक जगह पानी हनुमान जी की बनी मूर्ति के घुटनों के ऊपर बह रहा है. नदी के किनारों पर बने कई मंदिर डूब गए हैं. गोदावरी (Godavari) नदी किनारे रोजगा चलाने और रहने वाले लोगों को हिदायत दी गई है कि वे जगह छोड़कर वहां चले जाएं. हालात सामान्य होने पर वापस लौटें.

VIDEO: नासिक में गोदावरी का रौद्र रूप, हनुमान जी के घुटनों तक पहुंचा पानी
गोदवरी में बने बांध में भी पानी ओवरफ्लो हो रहा है. तस्वीर साभार- ANI

नासिक: लगातार बारिश (Heavy rainfall) के चलते महाराष्ट्र की प्रमुख नदी गोदावरी (Godavari) ऊफान पर है. इस वजह से नासिक (Nashik) में कई जगहों पर पानी से हालात बिगड़ चुके हैं. गोदावरी (Godavari) नदी पर बना बांध ओवर फ्लो हो गया है. पानी के तेज बहाव के चलते कई मंदिर डूब गए हैं. न्यूज एजेंसी ANI की ओर से जारी वीडियो में दिख रह है कि एक जगह पानी हनुमान जी की बनी मूर्ति के घुटनों के ऊपर बह रहा है. नदी के किनारों पर बने कई मंदिर डूब गए हैं. गोदावरी (Godavari) नदी किनारे रोजगा चलाने और रहने वाले लोगों को हिदायत दी गई है कि वे जगह छोड़कर वहां चले जाएं. हालात सामान्य होने पर वापस लौटें.

मालूम हो कि महाराष्ट्र, ओडिशा और उत्तर गुजरात के कुछ हिस्सों में पिछले दो दिनों से भारी बारिश हो रही है. मौसम विभाग का अनुमान है कि बुधवार को भी इन राज्यों में जोरदार बारिश हो सकती है. राज्‍य आपदा अभियान केंद्र के अधिकारियों ने कहा कि महाराष्ट्र के नासिक (Nashik) क्षेत्र में पिछले चार दिनों से भारी बारिश हो रही है. इस कारण गंगापुर बांध में पानी कुल भंडारण क्षमता का 74 फीसदी हो गया है.

मालूम हो कि गोदावरी (Godavari) नदी का उद्गम स्थल नासिक (Nashik) के पास त्र्यंबकेश्वर में है. 

महाराष्ट्र बाढ़ में फंसी ट्रेन : सेना ने 600 यात्रियों की जान बचाई
यहां आपको बता दें कि 27 जुलाई को मुंबई से 90 किलोमीटर दूर महाराष्ट्र के वांगनी में बाढ़ के पानी में फंसी महालक्ष्मी एक्सप्रेस ट्रेन के 1500 यात्री फंस गए थे, हालांकि समय रहते सभी यात्रियों को बचा लिया गया था. राज्य में 26 जुलाई 2005 को आई भयंकर बाढ़ के बाद से अब तक के सबसे बड़े संयुक्त ऑपरेशन में बचाव दल द्वारा अन्य यात्रियों को निकाला जा रहा है.

भारतीय वायु सेना, सेना, नौसेना, राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ), महाराष्ट्र पुलिस, स्थानीय एजेंसियों और वॉलेंटियर्स द्वारा ट्रेन में फंसे लोगों को बाहर निकलने का कार्य जारी है. बारिश के थोड़ा कम होने के बाद बचाव कार्य को शुरू किया गया ताकि बचे हुए यात्रियों को जल्द से जल्द सुरक्षित बचाया जा सके.