VIDEO: क्‍या कांग्रेस के साथ मीटिंग होगी? पवार का जवाब-किसने कहा? मुझे नहीं पता

महाराष्‍ट्र में सियासी उठापटक के बीच शिवसेना को समर्थन देने के मुद्दे पर कांग्रेस के तीन वरिष्‍ठ नेताओं को आज एनसीपी के साथ मीटिंग के लिए मुंबई जाना था.

VIDEO: क्‍या कांग्रेस के साथ मीटिंग होगी? पवार का जवाब-किसने कहा? मुझे नहीं पता

नई दिल्‍ली: महाराष्‍ट्र में सियासी उठापटक के बीच शिवसेना को समर्थन देने के मुद्दे पर कांग्रेस के तीन वरिष्‍ठ नेताओं को आज एनसीपी के साथ मीटिंग के लिए मुंबई जाना था. लेकिन इस बीच महाराष्‍ट्र कांग्रेस नेता माणिकराव ठाकरे ने आज सुबह कहा कि कांग्रेस से दिल्‍ली के नेता दो दिन बाद महाराष्‍ट्र आएंगे. इस पर पत्रकारों ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार से पूछा कि क्‍या कांग्रेस और एनसीपी के नेता आज मुलाकात करेंगे तो उन्‍होंने कहा- किसने कहा कि मीटिंग है? मुझे नहीं पता. शरद पवार अस्‍पताल में भर्ती शिवसेना नेता संजय राउत का हालचाल जानने मुंबई के लीलावती अस्‍पताल भी पहुंचे. सीने में दर्द के चलते राउत को कल अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था.

माणिकराव ठाकरे के बयान पर शरद पवार की पुत्री और एनसीपी नेता सुप्रिया सुले ने नाराजगी जाहिर की. उन्‍होंने उनके बयान पर यहां तक कह डाला कि मैं माणिकराव ठाकरे को नहीं जानती. कांग्रेस पार्टी के समर्थन के लिए हम सीधे पार्टी आलाकमान से बात करेंगे. इस तरह एनसीपी और कांग्रेस के बीच भी मतभेद उभरते दिख रहे हैं. 

वहीं, एनसीपी के विधायक दल नेता अजीत पवार ने भी शिवसेना को समर्थन देने और राज्‍य में सरकार बनाने के लिए कांग्रेस के राजी होने को लेकर कहा कि हमने साथ-साथ चुनाव लड़ा है. पूरा दिन हमने कल उनकी राह देख रहे थे, लेकिन चिट्ठी उनकी नहीं मिली. सरकार में स्टैबलिटी होनी चाहिए. हमने सभी बातें की हैं. कल शाम 7.30 बजे तक हमें उनकी चिट्ठी नहीं मिली. जो भी निर्णय होगा, सब साथ मिलकर ही करेंगे.

अजीत पवार कांग्रेस से नाराज- 'पार्टी पैदा कर रही कन्‍फ्यूजन', सुले ने कहा- आलाकमान से होगी बात

दरअसल, शिवसेना को समर्थन देने के मुद्दे पर मंथन के लिए कांग्रेस के तीन वरिष्‍ठ नेता शरद पवार से मिलने के लिए मुंबई जाने वाले थे लेकिन इस बीच महाराष्‍ट्र कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता माणिकराव ठाकरे ने बयान देते हुए कहा, ''कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता आज मुंबई नहीं आएंगे. अब कांग्रेस नेताओं की एनसीपी मुखिया शरद पवार के साथ मुलाकात दो दिन बाद संभव है.''

उल्‍लेखनीय है कि गवर्नर ने सरकार गठन के लिए बीजेपी, शिवसेना के बाद आज शाम साढ़े आठ बजे तक का वक्‍त एनसीपी को दिया है. लेकिन बदलते राजनीतिक घटनाक्रम के मद्देनजर सूत्रों के मुताबिक ऐसा लगता है कि एनसीपी को सरकार गठन संबंधी दावे के लिए कांग्रेस का समर्थन पत्र मिलना मुश्किल है. इस कारण यदि कांग्रेस से समर्थन पत्र नहीं मिलता है तो एनसीपी सूत्रों के मुताबिक पार्टी सरकार बनाने का दावा पेश नहीं करेगी.

देखें संबंधित वीडियो...