कुमार पर AAP का पलटवार, 'केजरीवाल सरकार को गिराने की साजिश के मुख्य सूत्रधार थे विश्वास'

आप के दिल्ली संयोजक गोपाल राय ने दावा किया कि पिछले वर्ष अप्रैल में एमसीडी चुनावों के बाद ‘‘सरकार को गिराने का प्रयास किया गया और उस षड्यंत्र के केंद्र में कुमार विश्वास थे.’’ 

कुमार पर AAP का पलटवार, 'केजरीवाल सरकार को गिराने की साजिश के मुख्य सूत्रधार थे विश्वास'
आप का दावा एमसीडी चुनाव के बाद विश्वास केजरीवाल सरकार गिराने की साजिश कर रहे थे. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी (आप) ने बागी नेता कुमार विश्वास पर गुरुवार को हमला बोलते हुए आरोप लगाया कि नगर निगम चुनावों के बाद दिल्ली में अरविंद केजरीवाल की सरकार गिराने की साजिश रचने के ‘‘केंद्र’’ में विश्वास थे. राज्यसभा का टिकट नहीं मिलने के बाद केजरीवाल सरकार के खिलाफ नाराजगी जताने के एक दिन बाद कवि-नेता कुमार पर पार्टी ने जोरदार पलटवार किया.

विश्वास के घर पर हुईं विधायकों की बैठकें : आप
आप के दिल्ली संयोजक गोपाल राय ने दावा किया कि पिछले वर्ष अप्रैल में एमसीडी चुनावों के बाद ‘‘सरकार को गिराने का प्रयास किया गया और उस साजिश के केंद्र में कुमार विश्वास थे.’’ उन्होंने फेसबुक के लाइव सत्र में कहा, ‘‘इस बारे में कुछ विधायकों के साथ अधिकतर बैठकें उनके घर पर हुईं. कपिल मिश्रा उसका हिस्सा थे और बाद में उन्हें कैबिनेट से हटा दिया गया.’’ विश्वास ने राय के आरोपों पर प्रतिक्रिया नहीं दी. आप के नाराज नेता ने बुधवार को आरोप लगाए थे कि केजरीवाल के निर्णयों के बारे में सच कहने के लिए उन्हें दंडित किया गया और उन्होंने उनकी ‘‘शहादत’’ को स्वीकार कर लिया है.

यह भी पढ़ें : 'सबको लड़ने पड़े अपने-अपने युद्ध, चाहे राजा राम हों चाहे गौतम बुद्ध' : कुमार विश्‍वास | खास बातें

सोशल मीडिया सत्र के दौरान राय ने एक वीडियो का हवाला दिया जिसे विश्वास ने जारी किया था और इसमें भ्रष्टाचार के मुद्दे पर उन्होंने केजरीवाल सरकार पर परोक्ष प्रहार किया था. राय ने कहा कि वीडियो के माध्यम से विश्वास ने निगम चुनावों में आप की संभावनाओं को खराब करने का प्रयास किया. स्थानीय चुनाव में पार्टी भाजपा से हार गई थी.

राय ने हर संभव सार्वजनिक मंच से पार्टी पर प्रहार किया : आप
राय ने कहा, ‘‘वह ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने हर संभव सार्वजनिक मंच से पार्टी पर प्रहार किए. क्या इस तरह के व्यक्ति को राज्यसभा भेजा जा सकता है?’’ इससे पहले विश्वास ने ट्वीट किया था कि वीडियो में उन्होंने जो मुद्दे उठाए, उन पर वे पुनर्विचार नहीं करेंगे. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘इस वीडियो की आवाज मेरे लिए सबसे ऊपर थी, है और रहेगी भले ही इसके लिए हाल में मुझे कीमत चुकानी पड़ी थी. मैं इस वीडियो के रूख पर कभी समझौता नहीं करूंगा चाहे भविष्य में और कुर्बानियां देनी पड़ें.’’

आप ने बुधवार को की थी राज्यसभा उम्मीदवारों की घोषणा
बता दें आदमी पार्टी ने अपने राज्यसभा उम्मीदवारों के तौर पर बुधवार (3 जनवरी) को संजय सिंह, सुशील गुप्ता और एन डी गुप्ता को नामित किया था. संजय सिंह पार्टी गठन के समय से ही उससे जुड़े हुए हैं. सुशील गुप्ता दिल्ली के एक कारोबारी हैं और एन डी गुप्ता एक चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर हुई एक बैठक में यह फैसला लिया गया जिसमें करीब पार्टी के 56 विधायकों ने हिस्सा लिया. दिल्ली से तीन राज्यसभा सीटों के लिए मतदान 16 जनवरी को होंगे. 70 सदस्यीय दिल्ली विधानसभा में आप को पूर्ण बहुमत प्राप्त है और उसके सभी तीनों सीटों पर जीत हासिल करने की पूरी उम्मीद है. राज्यसभा सीटों के लिए नामांकन दायर करने की अंतिम तारीख पांच जनवरी है.

यह भी पढ़ें : AAP के राज्यसभा उम्मीदवार: एक अरबपति, एक चार्टर्ड एकाउंटेंट, एक पार्टी का सीनियर नेता 

राज्यसभा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद विश्वास ने साधा था केजरीवाल पर निशाना 
आम आदमी पार्टी द्वारा राज्यसभा चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों की घोषणा किये जाने के तुरंत बाद कुमार विश्वास ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें सच बोलने की सजा दी जा रही है. विश्वास ने कहा, 'पिछले डेढ़ साल में, मैंने सच बोला फिर चाहे वह अरविंद केजरीवाल का फैसला हो या सर्जिकल स्ट्राइक, टिकट वितरण में अनियमितता, पंजाब में चरमपंथियों के प्रति नरमी अथवा जेएनयू घटना जैसे मुद्दे हों. सच बोलने की सजा के तौर पर मुझे इसका इनाम दिया गया.’’ विश्वास ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि यह एक सच्चे क्रांतिकारी, कवि और दोस्त की नैतिक जीत है.'

एनडी गुप्ता और सुशील गुप्ता को राज्यसभा उम्मीदवार बनाने के लिए केजरीवाल पर निशाना साधते हुए विश्वास ने कहा कि वह आप कार्यकर्ताओं को मुबारकबाद देना चाहेंगे कि ‘‘महान क्रांतिकारियों’’ को चुनने में उनकी आवाज को सुना गया. आप नेता ने यह भी आरोप लगाया कि करीब डेढ़ साल पहले पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में केजरीवाल ने मुस्कुराते हुए कहा था, ‘‘हम तुमको खत्म कर देंगे, लेकिन हम तुमको शहीद नहीं होने देंगे.’’आप नेता ने कहा, ‘‘मैं मुबारकबाद (केजरीवाल को) देना चाहूंगा कि मैंने अपनी शहादत स्वीकार कर ली.’’

(इनपुट-एजेंसी)