close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

केजरीवाल ने AAP कार्यकर्ताओं से कहा- 'हम लोगों को समझाने में नाकाम रहे'

कार्यकर्ताओं को लिखे एक पत्र में केजरीवाल ने ‘शानदार’ अभियान चलाने के लिए आप कार्यकर्ताओं की सराहना की.

केजरीवाल ने AAP कार्यकर्ताओं से कहा- 'हम लोगों को समझाने में नाकाम रहे'
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: आम चुनावों में अपनी पार्टी की भारी हार के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को पार्टी के कार्यकर्ताओं को एक खुला पत्र लिखा है जिसमें उन्होंने कहा है कि पार्टी लोगों को यह समझाने में असफल रही कि लोकसभा चुनावों में उसे क्यों वोट दिया जाना चाहिए. पत्र में केजरीवाल ने ‘शानदार’ अभियान चलाने के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं की सराहना की.

उन्होंने कहा कि हालांकि परिणाम हमारी उम्मीद के अनुरूप नहीं रहे. चुनाव के पश्चात जमीनी समीक्षा में दो मुख्य कारण उभर कर सामने आये हैं. पहला, देश में व्याप्त वातावरण का प्रभाव दिल्ली में भी पड़ा. दूसरा, लोगों ने इस ‘बड़े चुनाव’ को मोदी और राहुल के बीच देखा और उसी अनुसार वोट दिया. 

उन्होंने कहा कि जो भी कारण हो, लेकिन हम आम लोगों को यह समझाने में सफल नहीं रहे कि आप (पार्टी) को वोट क्यों देना चाहिए.  केजरीवाल ने सकारात्मक पहलू के बारे में कहा, ‘लोगों ने उत्साहपूर्वक हमें आश्वासन दिया है कि दिल्ली विधानसभा के छोटे चुनाव में वे दिल्ली में हमारे द्वारा कराये गये कार्यों के लिए वोट देंगे.’

'जनादेश को विनम्रता से स्वीकार करें'
इससे पहले रविवार को अरविंद केजरीवाल ने आप कार्यकर्ताओं से जनादेश को विनम्रता से स्वीकार करने और अगले साल होने वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव पर ध्यान केंद्रित करने की अपील की.

पश्चिम दिल्ली के पंजाबी बाग में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम चलाने वाले अन्ना हजारे ने उनसे कहा था, ‘जब कोई राजनीति या सार्वजनिक जीवन में आता है तो उसमें अपमान भी सहने की क्षमता होनी चाहिए.’  उन्होंने कहा था, ‘कई बार हमें अपमान सहना पड़ता है और मुझे इस अपमान को विनम्रता से स्वीकार करने के लिए अपने कार्यकर्ताओं पर गर्व है.’

उन्होंने कहा, ‘अब आप दिल्ली के लोगों के पास जाएं और उन्हें बताएं कि बड़ा चुनाव खत्म हो गया है और छोटे चुनाव आने वाले हैं. इन चुनावों में आपलोग नाम के आधार पर नहीं, बल्कि काम के आधार पर वोट दें.’