close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'कटमनी' के खिलाफ BJP के प्रदर्शन से निपटने के लिए ममता बनर्जी अपनाएंगी ये रणनीति

ममता बनर्जी ने दावा किया कि वाममोर्चा ने अपने शासनकाल में लोगों से जो 'कट मनी' ली थी, उनका एक भी पैसा नहीं लौटाया. वाममोर्चा ने राज्य में 34 साल तक शासन किया है.

'कटमनी' के खिलाफ BJP के प्रदर्शन से निपटने के लिए ममता बनर्जी अपनाएंगी ये रणनीति
ममता बनर्जी ने भगवा पार्टी पर आम लोगों को 'कट मनी' के संदर्भ में गुमराह करने का आरोप लगाया.

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार को तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं से भाजपा के खिलाफ समूचे राज्य में 'कालाधन लौटाओ' प्रदर्शन करने का आग्रह किया. पार्टी प्रमुख ने बंगाल में भाजपा द्वारा 'कट मनी' के खिलाफ किए जा रहे प्रदर्शन के जवाब में आंदोलन करने का आग्रह किया है. ममता ने भगवा पार्टी पर आम लोगों को 'कट मनी' के संदर्भ में गुमराह करने और इस मुद्दे को लेकर तृणमूल कांग्रेस के नेताओं पर हमला करने का आरोप लगाते हुए 'कालाधन लौटाने' की मांग को मुद्दा बनाकर पार्टी कार्यकर्ताओं से राज्य के सभी प्रशासनिक ब्लॉकों में भाजपा के खिलाफ प्रदर्शन करने को कहा.

उन्होंने कहा, "मेरा नेक इरादा है. मैंने पार्टी के लोगों से यह सुनिश्चित करने को कहा है कि आम लोग हमारी सरकार की कल्याणकारी योजनाओं से वंचित न हों. कल्याणकारी योजनाओं का लाभ निचले स्तर तक पहुंचाना हम जैसी गरीबों की सरकार का कर्तव्य है. लेकिन अब भाजपा के गुंडे तृणमूल कांग्रेस के नेताओं से कट मनी लौटाने को कह रहे हैं." ममता ने तृणमूल शहीद दिवस की रैली पर कहा, "उनसे पहले कालाधन लौटाने लाने के लिए कहिए."

उन्होंने कहा, "उन्होंने चुनाव के दौरान करोड़ों रुपये खर्च किए. यह पैसा कहां से आया. दिल्ली में उनका पार्टी कार्यालय 10 सितारा होटल की तरह है. इसके लिए बेशुमार पैसा ये कहां से लाए. नोटबंदी के बाद उन्होंने बंगाल में संपत्ति कहां से खरीदी. इनके पास अकूत कालाधन है. मैं तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं से 26, 27 जुलाई को सभी ब्लॉकों पर विरोध प्रदर्शन करने का आग्रह करती हूं और भाजपा नेताओं से मांग करती हूं कि वे लोगों का धन लौटाएं."

ममता बनर्जी ने कहा कि उनका संदेश सिर्फ उनकी पार्टी के लिए नहीं है, बल्कि सामान्य रूप से सभी राजनीतिक पार्टियों के साथ ही राज्य के सरकारी अधिकारियों के लिए है, ताकि लोगों को कल्याणकारी योजनाओं का फायदा मिल सके. उन्होंने यह भी दावा किया कि वाममोर्चा ने अपने शासनकाल में लोगों से जो 'कट मनी' ली थी, उनका एक भी पैसा नहीं लौटाया. वाममोर्चा ने राज्य में 34 साल तक शासन किया है.