close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Whatsapp के बिजनेस चीफ नीरज अरोड़ा ने दिया इस्तीफा, सामने आई ये वजह

इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस (आईएसबी) के पूर्व छात्र अरोड़ा ने व्हाट्सएप के अधिग्रहण को पूरा करने में अहम भूमिका निभाई थी.

Whatsapp के बिजनेस चीफ नीरज अरोड़ा ने दिया इस्तीफा, सामने आई ये वजह
नीरज अरोड़ा व्हाट्सएप से जुड़ने से पहले गूगल के साथ काम करते थे. (Photo:IANS)

सैन फ्रांसिस्को: व्हाट्सएप के भारतीय मूल के चीफ बिजनेस ऑफिसर नीरज अरोड़ा ने इस्तीफा दे दिया है. नीरज ने कहा है कि उन्हें अपने परिवार के साथ क्वालिटी टाइम बिताने की जरूरत है. अरोड़ा फेसबुक द्वारा व्हाट्सएप के अधिग्रहण से पहले से 2011 से इससे जुड़े हुए थे. इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस (आईएसबी) के पूर्व छात्र अरोड़ा ने व्हाट्सएप के अधिग्रहण को पूरा करने में अहम भूमिका निभाई थी. वह व्हाट्सएप से जुड़ने से पहले गूगल के साथ काम करते थे.

अरोड़ा ने मंगलवार को एक पोस्ट में कहा, "विश्वास करना मुश्किल हो रहा है कि मुझे यहां 7 साल हो गए हैं. जैन कॉम और ब्रायन एक्टन मुझे यहां लेकर आए थे. यह बेहतरीन यात्रा रही. मैं जैन और ब्रायन का शुक्रगुजार हूं, जिन्होंने अपने कारोबारी सहायक के तौर पर इतने वर्षो तक मुझ पर विश्वास किया." उन्होंने कहा, "मैं जैन और ब्रायन का शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने अपने कारोबारी सहयोगी के रूप में इतने वर्षो तक मुझ पर विश्वास बनाए रखा."

सीईओ भी हो चुके अलग
फेसबुक को मई में झटका देते हुए व्हाट्सएप के सहसंस्थापक और सीईओ कौम ने भी कंपनी से इस्तीफा देने का फैसला किया था. उन्होंने डेटा प्राइवेसी को लेकर व्हाट्सएप की मूल कंपनी फेसबुक से मतभेद होने की वजह से यह फैसला किया था. कौम के जाने के बाद सीईओ पद के लिए अरोड़ा का नाम आगे चल रहा. इनके अलावा व्हाट्सएप के सहसंस्थापक एक्टन ने भी 2017 में फेसबुक से नाता तोड़ दिया था.

जाने का सही समय
अरोड़ा ने कहा, "यह जाने का सही समय है लेकिन मैं गौरवान्वित हूं कि व्हाट्सएप हर दिन अलग-अलग तरीकों से लोगों के काम आ रहा है." उन्होंने कहा, "मुझे पूरा विश्वास है कि आगामी वर्षो में व्हाट्सएप साधारण, सुरक्षित और विश्वसनीय संचार का साधन बना रहेगा."

व्हाट्सएप के प्रवक्ता ने आईएएनएस को दिए बयान में कहा कि व्हाट्सएप मौजूदा समय में और भविष्य में निजी तौर पर लोगों के बीच बेहतर संचार का माध्यम बना रहेगा.

(इनपुट-एजेंसी)