VIDEO: नेहरू कुंभ में गए तो मची थी भगदड़, कुचले गए हजारों लोग लेकिन दब गई खबर: PM मोदी

1954 के कुंभ में भगदड़ मच गई थी, हजारों लोग मारे गए थे, लेकिन पंडित नेहरू पर कोई दाग न लग जाए, उसके लिए ये खबर दबा दी गई.

VIDEO: नेहरू कुंभ में गए तो मची थी भगदड़, कुचले गए हजारों लोग लेकिन दब गई खबर: PM मोदी
नेहरू के कार्यकाल में कुंभ की यह घटना एक बहुत बड़े पाप का उदाहरण है. पीएम मोदी, फोटो साभारः PTI

नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पंडित जवाहर लाल नेहरू के जरिए कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा, पीएम मोदी नेहरू पर आरोप लगाते हुए कहा कि, पंडित जवाहर लाल नेहरू के पीएम रहते हुए एक पाप हुआ था. जिसे आज तक किसी को बताया नहीं गया. पीएम मोदी ने 1954 के कुंभ का जिक्र करते हुए बताया कि, जब पंडित जवाहर लाल नेहरू प्रधानमंत्री थे तो वह एक बार कुंभ मेले में गये थे. उस समय कुंभ मेला इतना बड़ा नहीं होता था. नेहरू भी उसमें गए थे और उसमें भगदड़ मच गई थी. हजारों लोग कुचल के मारे गए थे. लेकिन सरकार की इज्जत बचाने के लिए और पंडित नेहरू पर कोई दाग न लग जाए, इसके लिए खबरें दबा दी गईं. 

भगदड के बाद जो कुछ हुआ वह भारी असंवेदनशीलता थी,जुल्म था: पीएम मोदी 
कुछ अखबारों में एक-दो कॉलम में खबर आई भी तो उसे दबा दिया गया. जबकि सच तो यह है कि नेहरू के कार्यकाल में कुंभ की यह घटना एक बहुत बड़े पाप का उदाहरण है. उन्होंने कहा कि इस बार कुंभ में करोड़ों लोग आए, प्रधानमंत्री खुद भी आए लेकिन कोई भगदड़ नहीं हुई, कोई नहीं मरा. व्यवस्थाएं कैसे बदलती हैं उसका यह उदाहरण है. उन्होंने कहा कि उस समय दूसरी पार्टियों का तो नामोनिशान भी नहीं था. केंद्र और राज्य में कांग्रेस की सरकार थी लेकिन तब भी खबरें दबा दी गईं.

उन परिवारों ने जिन्होंने अपना सब कुछ खोया था, उन्हें एक रूपया तक नहीं दिया गया. केवल भगदड. ही नहीं ,भगदड के बाद जो कुछ हुआ वह भारी असंवेदनशीलता थी,जुल्म था. मोदी ने कहा कि मुझे पहले भी कुंभ में अनेक बार आने का मौका मिला. जब सरकार बदलती और नीयत बदलती है तब कैसा परिणाम आता है, यह प्रयागराज ने इस बार दिखा दिया है. 

गढ़चिरौली नक्सल हमले पर बोले PM मोदी- 'हिंसा करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा'

पहले कुंभ होता था तो अखाड़ों के बीच जमीन को लेकर विवाद की ,मेले में भ्रष्टाचार की बातें सामने आती थीं. इस बार मेला हुआ, शान से माथा ऊंचा हो गया. एक आरोप नहीं लगा. मोदी ने कहा कि कुंभ में जिन लोगों ने सफाई की उनके लिए मेरे मन में बहुत सम्मान रहा. उन लोगों ने कुंभ में सफाई के प्रति लोगों की सोच बदल दी. इन सफाई करने वाले भाइयों-बहनों के पैर धोकर मुझे जो पुण्य मिला है, वो मेरी सबसे बड़ी पूंजी है.  जब सरकार बदलती है, नीयत बदलती है तब कैसा परिणाम आता है. वो प्रयागराज के कुंभ मेले ने इस बार दिखा दिया.