भारत में Covid-19 की दूसरी लहर में हो रही मौतों से WHO चिंतित, कहा- असल आंकड़े बताए सरकार

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर में हो रही बेतहाशा मौतों पर विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) ने चिंता जताई है. साथ ही कहा है कि सरकार को कोविड-19 के असल आंकड़े बताना चाहिए.

भारत में Covid-19 की दूसरी लहर में हो रही मौतों से WHO चिंतित, कहा- असल आंकड़े बताए सरकार
डॉ.सौम्या स्वामीनाथन (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: देश में कोरोना वायरस के कारण बेहद गंभीर स्थिति बनी हुई है. देश के इन हालातों पर पूरी दुनिया चिंतित है क्‍योंकि इससे सभी को खतरा है. विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) ने भी देश में कोरोना की दूसरी लहर में हो रही मौतों पर चिंता जताई है. डब्ल्यूएचओ की चीफ साइंटिस्‍ट डॉ.सौम्या स्वामीनाथन ने कहा है कि भारत में कोविड-19 के आंकड़े (Covid-19 Data) चिंतित करने वाले हैं और सरकार को सही आंकड़े बताने चाहिए. 

अगस्‍त तक 10 लाख मौतों का अनुमान 

देश के कई विशेषज्ञ भी कह चुके हैं कि जितनी बड़ी संख्‍या में शवों का अंतिम संस्‍कार हो रहा है, उसे देखते हुए मौतों की असल संख्‍या बताए जा रहे आंकड़ों से कहीं ज्‍यादा है. एएनआई को दिए इंटरव्यू में डॉ.स्वामीनाथन ने कहा है कि इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मेट्रिक्स एंड इवाल्यूश (IHME) ने मौजूदा आंकड़ों के आधार पर अगस्त तक 10 लाख लोगों की मौत होने का अनुमान लगाया है. हालांकि समय के साथ इसमें बदलाव भी हो सकता है.

ये भी पढ़ें: सरकार ने खारिज की UK को Covishield निर्यात करने की Serum Institute की याचिका

सभी देशों ने दिखाए कम आंकड़े 

डॉ.स्वामीनाथन ने यह भी कहा कि सभी देशों ने कम आंकड़े दिखाए हैं. असल संख्या कुछ और है. सरकारों को असल आंकड़े दिखाने चाहिए. इससे एक दिन पहले ही डब्ल्यूएचओ ने देश में पिछले साल मिले भारतीय वेरिएंट B.1617 को पूरी दुनिया के लिए चिंताजनक बताया था. यह वेरिएंट बेहद संक्रामक है. 

चिंताजनक श्रेणी में रखा गया है यह वेरिएंट 

डब्ल्यूएचओ में कोविड-19 तकनीकी दल से जुड़ीं डॉ. मारिया वैन केरखोव ने सोमवार को कहा था कि भारत में मिले B.1617 वेरिएंट को पहले निगरानी वाली श्रेणी में रखा गया था. संगठन लगातार इस वेरिएंट से होने वाले संक्रमण से संबंधित जानकारियों पर नजर बनाए हुए है. भारत समेत कई देशों में इस वायरस के फैलने को लेकर कई अध्ययन हो रहे हैं. वेरिएंट को लेकर उपलब्ध जानकारी और इसके बेहद संक्रामक होने के कारण इसे चिंताजनक वेरिएंट की श्रेणी में रखा गया है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.