AAP का नाम विवाद: योगेंद्र यादव को क्यों कहना पड़ा 'मेरा नाम सलीम' भी है?

आम आदमी पार्टी में नाम को लेकर मचे विवाद में अब पार्टी से बाहर हो चुके योगेंद्र यादव भी शामिल हो गए हैं. उन्होंने स्वीकार किया कि उनके परिवार वाले और दोस्त उन्हें सलीम कहकर बुलाते हैं.

AAP का नाम विवाद: योगेंद्र यादव को क्यों कहना पड़ा 'मेरा नाम सलीम' भी है?
स्वराज इंडिया के संस्थापक योगेंद्र यादव

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी में नाम को लेकर मचे विवाद में अब पार्टी से बाहर हो चुके योगेंद्र यादव भी शामिल हो गए हैं. उन्होंने सफाई दी है कि बीते लोकसभा चुनाव के दौरान आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर उन्होंने किसी भी चुनावी सभा में ये नहीं कहा था कि उनका नाम सलीम है. हालांकि उन्होंने कहा कि उनके दोस्त और परिवार वाले उन्हें आज भी सलीम कहकर बुलाते हैं. सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने आरोप लगाया था कि चुनाव के दौरान अपने पक्ष में मुस्लिम वोटरों को रिझाने के लिए उन्होंने कहा था कि उनका नाम सलीम है. 

इससे पहले आम आदमी की नेता आतिशी मारलेना के नाम को लेकर विवाद हो चुका है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पार्टी का मानना है कि उनका नाम सुनने में ईसाई की तरह लगता है, इसलिए उन्हें नाम से मारलेना हटा देना चाहिए. आतिशी पंजाबी राजपूत हैं. वैकल्पिक राजनीति के नाम पर दिल्ली की सत्ता में आई पार्टी द्वारा जातिवादी राजनीति को बढ़ावा देने पर उसकी आलोचना हुई. इस आरोप को आगे बढ़ाते हुए पार्टी से इस्तीफा दे चुके आशुतोष ने भी कहा कि पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान उनका परिचय भी उनकी जाति के आधार पर कराया गया, जबकि वो ऐसा नहीं चाहते थे.

नाम सलीम क्यों रखा गया? 
जब सोशल मीडिया पर ऐसा ही आरोप योगेंद्र यादव पर भी लगाया गया तो उन्हें सफाई देने के लिए आगे आना पड़ा. योगेंद्र यादव ने ट्वीट करके कहा कि मेरे परिवार के लोग और दोस्त मुझे बचपन से सलीम कहकर ही बुलाते हैं. उन्होंने ये भी कहा कि किसी भी चुनावी सभा में इस बात का जिक्र नहीं किया गया. 

 

यादव ने आगे लिखा, 'बीजेपी ने ये आरोप लगाया तो मैंने सबूत मांगा, और कहा कि अगर ऐसी कोई भी रिकार्डिंग हुई तो वो चुनाव छोड़ देंगे. लेकिन तब और बाद में कोई सबूत नहीं दिया गया.' योगेंद्र यादव के बचपन का नाम सलीम था, हालांकि जब स्कूल में उनके दोस्त उनका मजाक उड़ाने लगे तो उन्होंने नाम बदलकर योगेंद्र यादव कर लिया. उनका कहना है कि उनके पिता ने धार्मिक सद्भाव की मिसाल पेश करते हुए उनका नाम सलीम रखा था.