close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IND Vs PAK: मैच से पहले चैंपियंस ट्रॉफी को याद कर सिहर उठे कोहली, बोले- लगा था कि करियर खत्म हुआ

भारत-पाकिस्तान के मैच के दौरान अपने सबसे हाई-प्रेशर वाले मूमेंट के बारे में बात करते हुए विराट ने बताया कि '2009 में पाकिस्तान के खिलाफ चैंपियंस ट्रॉफी का समय मेरे लिए सबसे दबाव भरा लम्हा था. उस दिन जब मैं क्रीज पर आया तो बेहद खराब शॉट खेला, जिसके बाद मैं सुबह के 6 बजे तक नहीं सो पाया. '  

IND Vs PAK: मैच से पहले चैंपियंस ट्रॉफी को याद कर सिहर उठे कोहली, बोले- लगा था कि करियर खत्म हुआ
उस दिन जब मैं क्रीज पर आया तो बेहद खराब शॉट खेलाः विराट कोहली (फोटो साभारः twitter/@cricketworldcup)

नई दिल्लीः भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली इस वक्त दुनिया के उन एक बल्लेबाजों में से एक हैं, जिनका नाम सुनते ही महान से महान बॉलर भी उनके गेंदबाजी करने में कतराते हैं. हालांकि एक समय ऐसा भी था, जब क्रिकेट की दुनिया में पैर रखने के कुछ ही समय बाद उन्हें लगा था कि अब उनका करियर खत्म होने वाला है. क्रिकेट के साथ उनका सफर यहीं तक था, लेकिन यह बात और है कि वह आज दुनिया के सबसे महान बल्लेबाजों में से एक माने जाते हैं. अपने सबसे दवाब भरे समय के बारे में बताते हुए उन्होंने करीब 10 साल पहले पाकिस्तान के खिलाफ खेले एक मैच का जिक्र करते हुए इसे अपने जीवन का सबसे बुरा समय बताया है.

भारत-पाकिस्तान के मैच के दौरान अपने सबसे हाई-प्रेशर वाले मूमेंट के बारे में बात करते हुए विराट ने बताया कि '2009 में पाकिस्तान के खिलाफ चैंपियंस ट्रॉफी का समय मेरे लिए सबसे दबाव भरा लम्हा था. उस दिन जब मैं क्रीज पर आया तो बेहद खराब शॉट खेला, जिसके बाद मैं सुबह के 6 बजे तक नहीं सो पाया. उस दिन मुझे लग रहा था कि मेरा करियर बस यहीं खत्म हुआ और अब मैं कभी क्रिकेट नहीं खेल पाउंगा. यह अनुभव सबसे खराब था, इससे पहले मैंने कभी ऐसा महसूस नहीं किया था'

INDvsPAK: गेंदबाज आमिर के सवाल पर कोहली ने दिया ऐसा जवाब कि हर कोई रह गया दंग

बता दें सेन्चूरियन में 2009 में पाकिस्तान के खिलाफ चैंपियंस ट्रॉफी में विराट कोहली मात्र 16 रन बनाकर आउट हो गए थे, जिसके बाद भारत को पाकिस्तान से 54 रनों से हार का सामना करना पड़ा था. वहीं उन्होंने पाकिस्तान के साथ खेले सबसे मजेदार लम्हे के बारे में बात करते हुए बताया कि '2011 के वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल मुकाबले में मैं नॉन स्ट्राइक एंड पर खड़ा था और मैंने शाहिद अफरीदी और वहाब रियाज की बातचीत सुन ली थी. वह बेहद मजेदार लम्हा था, लेकिन उन दोनों के बीच क्या बातचीत हुई, इसके बारे में मैं अभी यहां कुछ भी नहीं बता सकता.'