Wuhan Coronavirus: लगातार बढ़ रही है मरने वालों की संख्या, जानिए अब तक कितने हो चुके संक्रमित

वुहान कोरोनावायरस से संक्रमित होने वाले और मरने वाले ज्यादातर चीन में ही हैं.

Wuhan Coronavirus: लगातार बढ़ रही है मरने वालों की संख्या, जानिए अब तक कितने हो चुके संक्रमित
फाइल फोटो

नई दिल्ली: चीन से निकले जानलेवा वुहान कोरोनावायरस (Wuhan Coronavirus) अब घातक महामारी का रूप लेने लगा है. ताजा रिपोर्ट के मुताबिक वुहान कोरोनावायरस की वजह से अब तक 106 लोगों की मौत हो चुकी है. तमाम सुरक्षा इंतजाम के बावजूद अब तक पूरी दुनिया में लगभग 4000 लोग इस घातक संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं. वुहान कोरोनावायरस से संक्रमित होने वाले और मरने वाले ज्यादातर चीन में ही हैं. अब ये वायरस चीन के बीजिंग और हूबी शहरों तक भी फैल चुका है. 

पूरी दुनिया में फैलने लगा है वुहान कोरोनावायरस का संक्रमण
अंतरराष्ट्रीय मीडिया से मिल रहे जानकारी के अनुसार घातक वुहान कोरोनावायरस के मामले अमेरिका, जापान, ऑस्ट्रेलिया, मलेशिया, दक्षिण कोरिया, फ्रांस, कनाडा, नेपाल, जर्मनी, थाईलैंड, सिंगापुर और वियतनाम से भी कंफर्म हो चुके हैं. इन सभी देशों ने एहतियातन अपने अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट्स में निगरानी जांच शुरू कर दिया है. खास तौर से चीन से आने वाले विमानों की सघन जांच हो रही है. किसी भी तरह के बुखार या वायरल की शिकायत को गंभीरता से जांचा जा रहा है.

वुहान कोरोनावायरस पर कैबिनेट सचिव बैठक की
भारत में वुहान कोरोनावायरस के संक्रमण रोकथाम के लिए सोमवार को कैबिनेट सचिव ने स्वास्थ्य मंत्रालय और नागरिक उड्डयन मंत्रालय के अधिकारियों के साथ बैठक की. अभी तक विभिन्न एयरपोर्ट्स से 12 मामले सामने आए हैं जिनमें संक्रमण के लक्षण दिख रहे थे. लेकिन स्वास्थ्य मंत्रालय ने साफ किया है कि अभी तक किसी भी संदिग्ध में वुहान कोरोनावायरस का संक्रमण नहीं मिला है.

क्यों है सभी देश चिंतित 
अमेरिका समेत दुनिया के सभी देश इस वायरस से परेशान हैं. दरअसल चीन के नागरिक अपने नए साल के जश्न के लिए पूरी दुनिया में घूमने निकलते हैं. अनुमान है कि इस साल चीन से लगभग 70 लाख लोग पूरी दुनिया में छुट्टी मनाने के लिए जाएंगे. ऐसे समय में नए वायरस के संक्रमण का खतरा और बढ़ गया है. हालांकि अमेरिका, इंग्लैंड, जापान और भारत समेत सभी देशों ने अपने एयरपोर्ट्स को हाई अलर्ट में रखते हुए जांच शुरू कर दिया है. लेकिन फिर भी हेल्थ एक्सपर्ट बताते हैं कि मौजूदा स्क्रीनिंग भी इस वायरस को देश में घुसने से नहीं रोक सकते.